ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

भारत बंद: मीडिया ने दलितों को हिंसक बताया, जबकि दलितों पर गोलियां बरसाई गईं

एससी-एसटी एक्ट में हुए बदलाव को लेकर भारत बंद के विरोध में हुए प्रदर्शन ने दोपहर होने तक हिंसक रूप अपना लिया। इसी के चलते अब मध्यप्रदेश में सात लोगों की जानें चली गईं। हिंसा की इन खबरों को मेनस्ट्रीम मीडिया द्वारा इस तरह से प्रदर्शित किया गया जैसे कि दलित प्रदर्शनकारियों ने गोलियां चलाईं और बवाल किया. लेकिन एक के बाद एक राज खुले तो दलित ही जातिवादी दंगाइयों के कहर का शिकार बने हैं।

मध्य प्रदेश में प्रदर्शन के दौरान हुई एक युवक की अंधाधुंध फायरिंग में चार लोगों की मौत की खबर सामने आई। बीएसपी कार्यकर्ता देवाशीष जकारिया ने सोशल नेटवर्किंग साइट पर जानकारी साझा करते हुए कहा है कि गोली चलाने वाले इस शख्स का नाम राजा सिंह चौहान हैजो बीजेपी का कार्यकर्ता है।

जकारिया ने लिखा, ‘ग्वालियर में जो पिस्तौल से गोली चला रहा है इस शक्श का नाम है राजा चौहान। इसके सभी साथी तोमर बिल्डिंग चौहान प्याऊ ग्वालियर के रहने वाले है।
इन्होंने BharatBandh को जाति की हिंसा में बदल दिया, दलित समुदाय के 3 लोगो को मार दिया है इसने मेरे स्कूल में मेरा सीनियर था।’

इस मामले पर बड़गाम विधायक और युवा दलित ने जिग्नेश मेवाणी ने भी अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर प्रतिक्रिया दी है। मेवाणी ने लिखा, ‘For urgent attention of media : बीएसपी के प्रवक्ता और करीबी दोस्त देबाशीष जादोरिया को जान से मार देने की धमकी। अभी delhi से साथी जे के गौतम का फ़ोन आया। यदि देबाशीष को खरोच भी न आनी चाहिए और यह जिम्मेदारी प्रशासन की है।’

जानकारी के मुताबिक, घटना के एक दिन बीत जाने के बाद भी राजा सिंह चौहान की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है।

इसके अलावा राजस्थान में भी पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प की खबरें आईँ। राजस्थान में प्रदर्शनकारियों पर एक महिला पत्थरबाजी करती नजर आई जिसे गिरफ्तार करने की भी सूचना है।

https://twitter.com/anandrai177/status/981011965173641217

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved