fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

कांग्रेस: पीएम ने #MeToo मामलें पर क्यों साध रखी है चुप्पी, बताएं कि पीड़ितों के साथ हैं या नहीं

MJ akbar
(Image Credits: NewsTrackEnglish)

हाल ही में यौन शोषण के मामले में घिरे केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री ऍम जे अखबर की तरफ से पीड़ित महिलाओं पर मानहानि का मुकदमा दर्ज करवाया गया है। देश की विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री ऍम ज अखबर द्वारा उठाये गए इस कदम को बहुत दुखद बात बताई है।

Advertisement

कांग्रेस प्रवक्ता आरपीएन सिंह का कहना है कि, यह बेहद अफसोस की बात है बीजेपी के मंत्री पर 14 महिलाओं द्वारा यौन शोषण का आरोप लगाया जाता है। और इस बात पर देश के प्रधानमंत्री द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है, बल्कि उन्होंने तो चुप्पी साध रखी है। प्रधानमंत्री का कर्तव्य बनता है की वो स्पष्ट करें कि वो किसके साथ हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता का कहना है की क्या सरकार महिलाओं का भी कोई भी आवाज न उठाने के पक्ष में हैं। मंत्री कहना है की यह आरोप राजनीति से प्रेरित है। परन्तु सचाई की बात यह ही की आरोप लगाने वाली महिलायें एक दूसरे से नहीं जुडी हुई है। महिलाओं ने बहुत प्रयत्न करके अपने बात रखी है,और हमारे प्रधानमंत्री जी ने इस पर चुप्पी साध लिया है।

कांग्रेस ने एक आरोप लगाते हुए कहा है की उत्तर प्रदेश के उन्नावं में बलात्कार के आरोपी विधायक को बीजेपी ने अपनी पार्टी से अभी तक नहीं निकाला है। इतना ही नहीं बिहार की देवरिया में महिला शेल्टर होम में बेटियों और महिलाओं के साथ हुए दुष्कर्म की घटना पर भी मोदी जी ने कुछ नहीं कहा। बिहार की घटना पर बेटियों, महिलाओं के समर्थन पर मोदी जी ने न तो एक भी ट्ववीट किया न ही कुछ बोला।

नेहरू के विरासत को मिटाने का प्रयास


कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा की मोदी सरकार जिस वादें के तहत सरकार में आई थी ,उन विषयों पर तो कुछ नहीं किया। बल्कि साढ़े चार साल से प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू और उनकी विरासत को मिटाने के लिए भाजपा भरसक प्रयास जरूर कर रही है।

प्रवक्ता ने कहा पंडित जवाहर लाल नेहरू भारत देश की स्वतंत्रता के लिए जेल गए, और जो उन्होनें देश को बनाने में अपने योगदान दिया है वो किसी से भी छुप नहीं सकता है। भाजपा चाहे कितना भी प्रयास कर ले लेकिन नेहरू जी की विरासत को मिटाने की बात तो छोड़ दो, उनकी विरासत इतनी बड़ी है की वो उसे छू भी नहीं पायेंगें।

इलाहाबाद का नाम बदलने पर प्रतिक्रिया

योगी सरकार द्वारा इलाहाबाद का नाम बदल कर प्रयागराज रखे जाने पर आरपीएन सिंह ने अपनी प्रतिक्रिया जाती है। उन्होंने कहा की योगी सरकार ने जो वादे किये थे उनको कब पूरा किया जाएगा। उनहोनें कहा की सरकार नामें तो बदल रही है लेकिन उतर प्रदेश के लोगों को जिदगीं बदलने का जो सपना दिखाया है वो कब पूरा होगा।

इसी प्रकार उन्होंने गुड़गांव का उदाहरण देते हुए कहा कि, सरकार ने गुड़गांव का नाम बदलकर गुरुग्राम तो कर दिया लेकिन वहां अभी भी कानून व्यवस्था ध्वस्त हो रखी है। उन्होंने सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा कि, विकास की बात करने वाले सिर्फ नाम बदलकर क्या दिखाना चाहते हैं।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved