fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

मंदिर के बाहर हुआ नाबालिक से गैंगरेप, पिता के साथ बेचती थी मंदिर के बाहर प्रसाद

rape_

लखनऊ में स्तिथ बख्शी तालाब के पास चन्द्रिका देवी मंदिर मेला परिसर में गुरूवार को प्रसाद की दूकान में एक लड़की को बंधक बनाया और उसके साथ गैंगरेप किया गया। लड़की के शोर मचने पर दो भाई समेत 3 आरोपी मौके से फरार हो गए तीनो की मेला परिसर में प्रसाद की दूकान है। मेला  परिसर में दूकान लगाने वाले अधिकतर दूकान दार इस मामले को दबाने की कोशिश करते रहे। इंस्पेक्टर बीकेटी देर रात करीब 10 बजे पीड़िता और उसके परिवारीजनों का हालचाल पूछने पहुंचे।

Advertisement

सुचना के अनुसार, बीकेटी में सीतापुर का निवासी एक शख्स प्रसाद की दूकान लगाता है। वहां ससुराल है। पीड़िता भी अपने पिता की दूकान की देख रेख करती थी। मेला परिसर में ही दो भाइयों समेत एक अन्य आरोपित की दुकान है। पीड़िता का कहना है उनमे से एक आरोपी ने लगभग 2 बजे उसे अपनी दूकान पर बहाने से बुलाया। वह अन्य दो आरोपी पहले से है मौजूद थे।  पीड़िता के दूकान पर आते ही उसका हाथ पकड़ उसे अंदर खिंच लिया। पीड़िता की आवाज बाहर ना जाये इसके लिए तेज़ आवाज में गाना चला दिया। पीड़िता चिल्लाने लगी पर गाने की तेज़ आवाज होने के कारण उसकी आवाज कोई नहीं सुन पाया। आरोप है की तीनो ने उसके साथ रैप किया। किसी तरह पीड़िता बाहर आयी और मदद मांगी। कुछ दूरी पर मौजूद किशोरी के पिता व अन्य दुकानदार पहुंचे तो आरोपी फरार हो गए।

सुचना के अनुसार पीड़िता ने दोपहर में यूपी-100 को सूचना दी थी, लेकिन पुलिस ने तुरंत ऐक्शन नहीं लिया। यही नही आरोपी कॉल करके जान से मारने की धमकी भीं दे रहे हैं। पीड़ित पिता ने बताया कि इंस्पेक्टर ने देर रात उसे व बेटी को प्रधान के घर बुलाया। पीड़ित के पिता का कहना है कि गांव के लोग और पुलिस मिलकर इस मामले को दबाने का प्रयास कर रही है।

चन्द्रिका देवी मंदिर के पास रहने वाले लोगो ने बताया है की वहां के पुलिस चौकी भी है परन्तु वहां दो महीने से कोई पुलिसकर्मी वहां नहीं आया। चौकी पर एक एसआई की ड्यूटी होने के बावजूद वो वहां पर आते नहीं। इंस्पेक्टर बीकेटी अमरनाथ वर्मा ने कहा है कि चौकी इंचार्ज की तबीयत खरब रहती है, इसलिए वह नहीं आते हैं। गैंगरेप की सूचना देर से मिली। गैंगरेप, पॉक्सो एक्ट समेत अन्य धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved