ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

जिग्नेश बोले- अगर स्मृति ईरानी येल यूनिवर्सिटी की फर्जी डिग्री से HRD मंत्री बन सकती हैं तो ..

Photo Source: Vipin Kumar/Hindustan Times

केंद्र सरकार ने हाल ही में दिल्ली सरकार के नौ सलाहकारों की नियुक्ति को हाल में रद्द किया है। इनमें अतिशी मार्लेना दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की सलाहकार थीं। इसी को लेकर दिल्ली सरकार और उपराज्यपाल के बीच तकरार जारी है। वहीं इस बहस के बीच में दलित नेता और बड़गाम विधायक जिग्नेश मेवानी ने केंद्र की मोदी सरकार पर एक बार फिर निशाना साधा है।

जिग्नेश ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर लिखा, “अगर स्मृति ईरानी अपनी येल यूनिवर्सिटी की फर्जी डिग्री से एचआरडी मंत्री बन सकती हैं तो एक असली रोड्स स्कॉलर आतिशी मार्लेना से बीजेपी को इतना डर क्यों है? असली डिग्री के साथ वो शिक्षा में असली काम कर रही थीं, इसलिए?”

वहीं, इस मामले पर दिल्ली सरकार का कहना है कि मोदी सरकार आतिशी मार्लेना को इसलिए टारगेट कर रही है, क्योंकि वे देश की राजधानी में शिक्षा व्यवस्था में सुधार ला रही थीं।

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, “इस आदेश के पीछे का मकसद केवल आतिशी मार्लेना को निशाना बनाना है, क्योंकि वे दिल्ली की शिक्षा व्यवस्था में सुधार ला रही थीं। मैं बीजेपी को चुनौती देता हूं कि वे एक भी ऐसा राज्य ढूंढ दें, जहां पर एक भी सरकारी स्कूल बंद नहीं किए गए और हम यहां दिल्ली में शिक्षा व्यवस्था में सुधार ला रहे हैं।”

बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस विषय में कहा था कि ये नियुक्तियां बिना केंद्र सरकार की मंजूरी के की गई थीं और इसके लिए मंजूरी देना दिल्ली सरकार के अधिकार क्षेत्र के दायरे के अंदर नहीं आता।

उपराज्यपाल अनिल बैजल के अधीन काम करने वाले सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जिन नौ सालहकारों की नियुक्ति को रद्द किया गया है, उनमें अमरदीप तिवारी, अरुणोदय प्रकाश, राघव चड्ढा, आतिशी मार्लेना, दिनकर आदिब, राम कुमार झा, समीर मल्होत्रा और प्रशांत सक्सेना शामिल हैं।

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved