fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

स्कूल में बच्चो को हिन्दू मुस्लिम के आधार पर बाटने वाले स्कूल के प्रिंसिपल को नोटिस

school-children-759

दिल्ली के वजीराबाद इलाके के उत्तरी नगर निगम स्कूल में प्रिंसिपल ने हिन्दू बच्चो के अलग और मुस्लिम बच्चो के अलग सेक्शन बना दिए है। पहली से पांचवी तक के स्कूल में कुल 17 सेक्शन हैं जिसमें से 9 सेक्शन में बच्चे मिले-जुले हैं जबकि आठ में साफ तौर पर मजहब के आधार पर बंटे हुए हैं।

Advertisement

इंडियन एक्सप्रेस की सुकृता बरुआ ने स्कूल की उपस्थिति पंजिका का अध्ययन कर बताया है कि पहली कक्षा के सेक्शन ए में 36 हिन्दू हैं. सेक्शन बी में 36 मुसलमान हैं.  दूसरी कक्षा के सेक्शन ए में 47 हिन्दू हैं. सेक्शन बी में 26 मुसलमान और 15 हिन्दू हैं. सेक्शन सी में 40 मुसलमान. तीसरी कक्षा के सेक्शन ए में 40 हिन्दू हैं. सेक्शन बी में 23 हिन्दू और 11 मुसलमान. सेक्शन सी में 40 मुसलमान. सेक्शन डी में 14 हिन्दू और 23 मुसलमान. चौथी कक्षा के सेक्शन ए में 40 हिन्दू, सेक्शन बी में 19 हिन्दू और 13 मुस्लिम. सेक्शन सी में 35 मुसलमान. पांचवी कक्षा के सेक्शन ए में 45 हिन्दू, सेक्शन बी में 49 हिन्दू, सेक्शन सी में 39 मुस्लिम और 2 हिन्दू. सेक्शन डी में 47 मुस्लिम.

मामला सामने आने पर दिल्ली बाल अधिकार सरक्षण आयोग ने स्कूल के प्रिंसिपल को नोटिस जारी किया है। नोटिस में स्कूल प्रमुख को निर्देश दिए गए कि बच्चों का बीते 6 महीने का अटेंडेंस का रिकॉर्ड और जुलाई में हुए क्लास  बंटवारे से पहले और बाद किस क्लास में कितने बच्चे हैं इसकी जानकारी दें। बच्चों को अलग-अलग सेक्शन में किस आधार पर डाला गया है, उस प्रक्रिया की जानकारी दें। अलग-अलग क्लास में अलग-अलग धर्म के बच्चे कैसे हुए, इसके कारण बताएं। स्कूल प्रमुख सुनिश्चित करें कि स्कूल में किसी भी तरह का बंटवारा न हो. अलग-अलग धर्मों के सेक्शन जो बनाए गए हैं, उनको तुरंत प्रभाव से भंग किया जाए. सभी सेक्शनों में एक तरह से बच्चे रखे जाएं।

वही दिल्ली बाल अधिकार संरक्षण आयोग के नार्थ MCD के शिक्षा निदेशक को निर्देश दिया है कि इस पूरे मामले की जांच के लिए एक कमेटी गठित करें। भविष्य में ऐसा न हो इसकी रोकथाम के लिए कदम उठाएं। सुनिश्चित करें कि स्कूल में किसी भी तरह का बंटवारा न हो और तुरंत प्रभाव से जो अलग-अलग धर्मों के सेक्शन बनाए हुए हैं उनको एक साथ किया जाए।


Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

0
To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved