fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

संघ प्रचारक डॉ.मनमोहन वैद्य: सरकार जमीन अधिग्रहण करके राम मंदिर निर्माण का कार्य शुरू करें

dr.manmohan vaidya

(आरएसएस) संघ प्रचारक डॉ.मनमोहन वैद्य ने मोदी सरकार को जमीन अधिकग्रहण करके राम मंदिर बनाने के लिए कहा। बुधवार को मुंबई में तीन दिन तक चलने वाली (आरएसएस) कार्यकारिणी बैठक शुरू हुई। जिसमे आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत भी मौजूद थे।

Advertisement

संघ प्रचारक डॉ.मनमोहन वैद्य ने सरकार से कहा की उन्हें मंदिर निर्माण का कार्य जमीन अधिग्रहण करके करना चाहिए। मनमोहन वैद्य ने कहा राम मंदिर का मामला हिन्दू बनाम मुस्लिम या मंदिर बनाम मस्जिद की विषय का नहीं हैं। कोर्ट ने पहले ही कह दिया है कि नमाज पड़ने के लिए मस्जिद अनिवार्य नहीं है। खुली जगह पर भी वो नमाज पड़ सकते हैं।

उन्होनें कहा की मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाना क़ानूनी कार्यवाही नहीं था। राम मंदिर पर अब और चर्चा की जरूरत नहीं है। डॉ.मनमोहन वैद्य ने कहा कि जब बाबर से विजय प्राप्त किया था तब उनके पास बहुत जमीन थी वो कहीं भी मस्जिद बना सकते थे। अदालत का भी कहना है कि मुस्लिम के प्रार्थनाओं के लिए मस्जिद अनिवार्य नहीं है। विद्वानों का भी यह कहना है की विजय से प्राप्त की गई जमीन पर बनाये हुए मस्जिद पर की गई नमाज सही नहीं होती।

कांग्रेस नेता राहुल गाँधी द्वारा संघ पर की गई टिप्पणी के सन्दर्भ में डा.मनमोहन वैद्य ने कहा की पहले भी कांग्रेस ने आरएसएस पर आरोप लगाए हैं। लेकिन आरएसएस पर जितने आरोप लगते हैं आरएसएस उतना ही आगे बढ़ रहा है।

संघ प्रचारक डा.मनमोहन वैद्य ने कहा कि संघ कार्यकारिणी की ये बैठक साल में दो बार होती है। इस बैठक में देश से 330 लोग हिस्सा ले रहें हैं। और कहा कि संघ द्वारा 1500 नई गोशाला की स्थापना की गई है।


संघ के तीन दिनों तक चलने वाले इस बैठक में कई मुद्दों पर बात करने कि संभावना है। कहा जा रहा है की राम मंदिर निर्माण के साथ साथ कई मुद्दे जैसे देश की सुरक्षा, सीमा क्षेत्र का विकास, नई शिक्षा नीति एवं स्वदेशी वस्तुओं के निर्माण अदि विषयों पर भी चर्चा की संभावना हैं।

इस बैठक में मोहन भागवत के अलावा सरकार्यवाह सुरेश जोशी उपाख्य भैयाजी, सह-सरकार्यवाह सुरेश सोनी, डॉ. कृष्ण गोपाल, दत्तात्रेय होसबले, वी.भागय्या, डॉ.मनमोहन वैद्य ने हिस्सा लिया। वर्ष में दो बार आरएसएस की होने वाली इस बैठक को दिवाली की बैठक भी कहते हैं। यह बैठक हर साल विजयादशमी के बाद और दीपावली से पहले होती हैं।

नागपुर में संघ मुख्यालय में विजयादशमी के अवसर पर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत अपने भाषण के दौरान सबरीमाला मदिर, राम मंदिर और अर्बन नक्सलवाद समेत कई अहम मुद्दों को उठाया था। इसी कारण यह उम्मीद लगाई जा रही हैं कि संघ की इस बैठक में इन मुद्दों को उठाया जा सकता है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved