fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

अमृतसर ट्रैन हादसे में 61 लोगो की मौत, कौन है जिम्मेदार?

पंजाब के अमृतसर में दशहरे के दिन रावण दहन के हर्षोउल्लास में डूबे लोगो का जशन कब शौक और मातम में बदल गया पता ही नहीं चला। शुक्रवार की शाम पंजाब के अमृतसर में रावण दहन के दौरान पटरी पर ट्रैन ने 61 लोगो को कुचल दिया और 50 से ज्यादा लोग घायल हो गए। जिनमे से कुछ लोगो की हालत अभी गंभीर बताई जा रही है। सूत्रों के मुताबिक अमृतसर के जोड़ा फाटक के पास शुक्रवार शाम दशहरा देखने के लिए काफी बड़ी संख्या में लोग आये थे। लोग पटरी पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे तभी तेज़ी से गुजरती ट्रैन ने सैकड़ो लोगो को रौंद दिया।

Advertisement

इस हादसे के बाद कई सवाल उठाये जा रहे है की रेलवे फाटक और क्रॉसिंग की जगह आयोजन क्यों किया गया,आयोजन की अनुमति किसने दी, इस आयोजन की अनुमति प्रशासन से ली थी या नहीं।

https://www.youtube.com/watch?v=hSRa-kFkH0U

सौजन्य : अमर उजाला

दशहरे के मौके पर हर जगह पुलिस प्रशासन अलर्ट पर रहती है आयोजनों के चलते मेले में सुरक्षा व्यवस्था की पूरी कमान पुलिस के हाथो में होती है परन्तु अमृतसर के इस हादसे में प्रशासन ने कोई पुख्ता इंतज़ाम नहीं किये थे। सूत्रों के मुताबिक कुछ ही पुलिस वाले इस सुरक्षा व्यवस्था के लिए मौजूद थे।


पंजाब के अमृतसर के जोड़ा फाटक के पास पिछले साल दशहरे का कोई आयोजन नहीं हुआ था। परन्तु इस साल कांग्रेस पार्षद के बेटे ने काय्रकम का आयोजन किया था। इस पुरे केस में  कांग्रेस पार्षद के बेटे सौरभ मिठू मदान का नाम सामने आ रहा है। जहां आयोजन किया गया था वहां रेलवे ट्रेक के बिच 5 फिट ऊँची दिवार थी परन्तु लोग रावण दहन देखने के लिए और बेहतर नज़ारे के लिए लोग दिवार पर बैठ गए और कुछ पटरी पर आ गए। सवाल यह उठाया जा रहा है की क्या इस आयोजन की अनुमति प्रशासन से ली गयी थी या नही और अगर अनुमति दी थी तो सुरक्षा को नहीं प्रदान की गयी।

भारतीय रेलवे ने अपनी गलती मानने से इंकार कर दिया है परन्तु क्या रेलवे प्रशासन को यह जानकारी नहीं दी गयी की इस बार बड़े पैमाने पर रेल फाटक के पास दशहरे का आयोजन किया जा रहा है ? रेलवे ने कोई चेतावनी जारी नहीं की और ना ही सावधानी बरती यहाँ तक की गेटमैन भी अलर्ट पर नहीं था। इस हादसे के बाद रेलवे ने कार्यक्रम को अतिक्रमण का मामला बताया है।

इस हादसे के पीछे सरकार की नाकामी भी किसी मायने में कम नहीं है। सूचना के अनुसार बताया जा रहा है की सरकार के पास ऐसे किसी आयोजन की जानकारी नहीं है न ही उसके आंकड़े है।  सरकारों के पास उस आयोजन का डाटा भी नहीं है कि कहां किस तरह के आयोजन होते हैं और कहां पर किस तरह की सुरक्षा व्यवस्था करनी है?

सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि जहां हादसा हुआ वह जगह जोड़ा फाटक से 400 फुट की दूरी पर है। अमृतसर में शुक्रवार शाम को रावण दहन देखने के लिए लोग रेल की पटरी पर जमा हो गए थे। लोगों को वहां रावण दहन का नज़ारा सही से दिख पाएं यही वजह है कि भीड़ वहीं से रावण दहन देखने लगी और देखते देखते ख़ुशी का माहौल मातम में बदल गया।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved