fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

मनु की प्रतिमा पर दो महिलाओ ने काला रंग फेका, पुलिस ने किया गिरफ्तार

manu smriti

जयपुर स्थित हाईकोर्ट परिसर में लगी मनु की प्रतिमा पर सोमवार को दो महिलाओ ने काली स्याही फेक कर दिया दिया। दिन के वक्त हुई इस घटना से हाईकोर्ट की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े हो गए. मामले का पता चलने पर काफी संख्या में वकील वहां इकट्‌ठा हो गए. सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों ने दोनों महिलाओं को पकड़ा. इसके बाद अशाेक नगर थाना पुलिस को सूचना दी. पुलिस इन महिलाओं को पकड़कर पुलिस थाने ले गई।

Advertisement

manu

सोमवार  दोपहर करीब साढ़े बारह बजे अचानक दो महिलाएं आई और इनमे से एक महिला दूसरे के कंधे पर चढ़ कर मूर्ति पर काला रंग स्प्रे करने लगी।  यह देखकर हाईकोर्ट परिसर में हंगामा मच गया और वहा मौजूद सुरक्षाकर्मी चिल्लाया। वहा मौजूद पुलिस वाले ने तुरंत महिला पुलिसकर्मिओ को बुलाया और दोनों महिलाओ  गिरफ्तार कर लिया हाईकोर्ट प्रशासन की ओर से इस बारे में अशोक नगर थाने में मामला दर्ज कराया गया है। इन महिलाओ ने मनु के प्रति अपनी नफरत जाहिर करने के लिए काले रंग का स्प्रे किया। पुलिस कार्यवाई के बाद हाईकोर्ट प्रशासन ने मूर्ति पर लगाए गए काले रंग को साफ़ करवा दिया है। इस घटना के बाद हाईकोर्ट परिसर में पुलिस की सतर्कता बढ़ गई है।

इस घटनाक्रम के बाद फिर से हाईकोर्ट परिसर में मनु स्मृति और मनु मूर्ति को हटाने का मुद्दा एक बार फिर से चर्चा में आ गया है। कुछ अरसे पहले भी एक सामाजिक संगठन ने हाईकोर्ट परिसर में लगी मनु की प्रतिमा हटाने के लिए विरोध प्रदर्शन किया था। तब यहां सुरक्षाकर्मी तैनात कर दिए गए थे। जनवरी 2017 में आयोजित मनुवाद विरोधी सम्मेलन में इसकी घोषणा की गई थी। जिसमें यह भी तय हुआ था कि मनुवाद विरोधी अभियान चलाने वाला एक प्रतिनिधि मंडल हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस से मुलाकात कर कोर्ट परिसर में लगी मनु की मूर्ति को हटाने के लिये शीघ्र सुनवाई करने की मांग करेगा।

वही राजस्थान हाईकोर्ट बार असोसिएशन अध्यक्ष अनिल उपमान व महासचिव संगीता शर्मा ने हाईकोर्ट प्रशासन से परिसर की सुरक्षा चाक चौबंद करने तथा पुलिस से इस घटना को गंभीरता से लेते हुए गिरफ्तार महिलाओ को स्थानीय व राष्ट्रीय कनेक्शन तलाशने की मांग की है।


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved