fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

पूर्णिया: दलित होने के कारण नहीं मिला सविता को मेयर का ताज, विभा को मिली जीत

purniya nagar

डिप्टी मेयर चुनाव के कुछ घंटे पहले मेयर खेमे की तरफ से चलाया गया दलित कार्ड सफल नहीं हो पाया और जो वार्ड पार्षद मेयर चुनाव तक सविता देवी के पक्ष में थे, उन्होंने अपना रुख बदलते हुए पूर्व मेयर विभा कुमारी को डिप्टी मेयर बना दिया।

Advertisement

पार्टी का हवाला देते हुए मेयर सविता देवी ने पूर्व मेयर विभा कुमारी से भी उनके उम्मीदवार विजय उरांव को पार्टी लाइन पर सपोर्ट करने की अपील की थी। फिलहाल, नगर निगम में पिछले एक महीने से जारी संघर्ष का दौर सोमवार को समाप्त हो गया है। डिप्टी मेयर पद को लेकर मचे घमासान के बीच हुए मतदान में विभा कुमारी को काफी बड़ा बहुमत प्राप्त हुआ। डिप्टी मेयर के चुनाव में 45 वार्ड पार्षदों ने भाग लिया। पूर्व डिप्टी मेयर संतोष यादव वहां उपस्थित नहीं थे। उन्होंने लड़ाई से पहले ही मैदान छोड़ दिया, जो इस पूरे घटनाक्रम के केन्द्र में थे, वही अचानक सीन से गायब हो गए। विभा कुमारी के समर्थन में कुल 36 वोट पड़े।

इसमें एक मत कुछ तकनीकी कारणों से रद्द कर दिया गया । दूसरी ओर सत्ता पक्ष के उम्मीदवार विजय उरांव को महज आठ मतों से ही संतोष होना पड़ा । मतदान की प्रक्रिया जिलाधिकारी प्रदीप कुमार झा के दिशानिर्देश में शांति पूर्वक तरीके से किया गया । मुख्य द्वार पर एसडीएम डॉ. विनोद कुमार, बायसी एसडीओ सावन कुमार, बायसी डीएसपी मनोज राम, अपर समाहर्ता अभिराम त्रिवेदी, एसडीपीओ सुनील कुमार खड़े रहे। डिप्टी मेयर के चुनाव का नतीजा वैसा ही रहा, जैसा सोचा गया था । सूत्रों के मुताबिक बताया गया था की 5 नवंबर के अंक में इसे प्रमुखता से प्रकाशित किया था कि विभा कुमारी का पलड़ा भारी है और तीन दर्जन वार्ड पार्षद उनके समर्थन में हैं।

डिप्टी मेयर पद के लिए हुए मतदान में सभी वार्ड पार्षद 10:50 बजे से ही पहुंचने लगे। सबसे पहले वार्ड-24 की पार्षद आशा श्रीवास्तव समाहरणालय पहुंची। उसके बाद 11:17 बजे वार्ड 32 की पार्षद कनीज रजा पहुंची। इसके बाद स्थिति साफ़ होने लगी थी कि इस मतदान में लड़ाई समाप्त हो चुकी है और एकतरफा मुकाबला ही होना है। इसी बीच विरोधी खेमे के 35 पार्षद ठीक 11:40 बजे पूर्व मेयर विभा कुमारी के नेतृत्व में समाहरणालय पहुंचे और इनलोगों ने अपनी एकता दिखाई और चुनाव समय सब साथ रहे। डिप्टी मेयर पद पर विभा कुमारी की जीत के बाद फूलमाला पहनाकर उनके समर्थक उनका स्वागत करने लगे।

पूर्व मेयर व डिप्टी मेयर की प्रत्याशी विभा कुमारी के साथ वार्ड के काफी लोग पहुंचे। जिनमे  पंकज कुमार यादव, रंजना सहाय, प्रतिमा कुमारी, अर्जुन सिंह, रमेश पासवान, सुनैना देवी, कामिनी देवी, किरण देवी, विंदा देवी, श्रीप्रसाद महतो, रेखा देवी, अजय कुमार, कुणाल किशोर, लीला देवी, अमित कुमार साह, सरिता राय, इंदिरा देवी, रीमा दास, रिंकू देवी, अंजुम परवीन, मुसर्रत जहां, मुर्शीदा खातून, नीरा देवी, पवन ठाकुर, राजीव कुमार, वेली देवी, अमित कुमार उर्फ डबलू, विजय कुमार उरांव व फुलिया देवी शामिल थे।


जदयू नेता व विभा कुमारी के पति जितेंद्र यादव का कहना है कि यह विकास की जीत है और अब हम सब मिलकर पूर्णिया का विकास करेंगे। युवा जदयू के महानगर अध्यक्ष भोला कुशवाहा का कहना है कि यह विकास कार्य की जीत है। अचानक आदिवासी समाज के सदस्य को डिप्टी मेयर का प्रत्याशी बनाकर उन्हें राजनीति का शिकार बनाया गया है।

पूर्व मेयर विभा कुमारी ने कहा कि डिप्टी मेयर पद पर अँधेरे की उजाले पर जीत बताते हुए अपनी ख़ुशी जाहिर की है। उन्होंने कहा कि इस दिवाली नगर निगम की जनता को आश्वस्त करना चाहूंगी कि नगर निगम की समृद्धि और जन सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए जो प्रयास करने की जरूरत पड़ेगी वह जरूर करेंगी।

हार के बाद डिप्टी मेयर पद के उम्मीदवार वार्ड-31 के पार्षद विजय उरांव ने चुनाव जीतने के प्रयासों को सवालों के कटघरे में ला खड़ा किया है। विजय उरांव ने डिप्टी मेयर विभा कुमारी पर पार्षदों को खरीदने का आरोप लगाया है। उनका मानना है कि वार्ड पार्षदों की खरीद-फरोख्त का यह खेल एक दो हजार नहीं बल्कि लाखों में हुआ है, मेरे पास उतने रुपए नहीं थे कि मैं वार्ड पार्षदों की बोली लगा सकूं।

मतदान केंद्र पर सबसे पहले पूर्व मेयर कनीज राज 11:20 बजे पहुंची। मतदान केंद्र पर पहुंचने के क्रम में ही उन्होंने बातचीत में दबी आवाज से विभा कुमारी की जीत का इशारा किया। करीब पांच मिनट के अंदर उनके मतदान केंद्र पर पहुंचने बाद ही प्रत्याशी विभा कुमारी अपने तीन दर्जन समर्थक वार्ड पार्षदों के साथ कलेक्ट्रेट पहुंची। डिप्टी मेयर पद के दावेदार के साथ चल रहे समर्थकों ने उनके जितने का भरोसा दिलाया साथ ही जादुई आंकड़े से अधिक मत प्राप्त करने की भी बात की। विभा खेमे के मतदान केंद्र पर पहुंचने के करीब पांच मिनट के भीतर ही मेयर सविता देवी का खेमा वहां पहुंचा। उनके साथ उनकी ओर से डिप्टी मेयर पद के प्रत्याशी विजय उरांव समेत 10 पार्षद उपस्थित थे। इस दौरान मेयर सविता देवी ने अपने प्रत्याशी की जीत का दावा किया, साथ ही चुनाव में बाजी कभी भी पलटने की भी बात भी कही और अपनी शंका जाहिर कर दी। उनके प्रत्याशी विजय उरांव की भी शारीरिक भाषा उनके दावे से मेल नहीं खा रही थी।

राजनीति में कहावत है की ऊंट कब किस करवट बैठ जाए यह कहा नहीं जा सकता। नगर निगम के मेयर और डिप्टी मेयर के चुनाव में यह कहावत सही नजर आयी । अगस्त माह में जिस विभा कुमारी को मेयर पद से उतराने के लिए नगर निगम के आधे से अधिक पार्षदों ने एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया था। उन्हीं पार्षदों ने डिप्टी मेयर संतोष यादव को पदच्युत करने और पूर्व मेयर को डिप्टी मेयर की कुर्सी पर बनाये रखने के लिए पाला बदल लिया और उनके खेमे में शामिल होकर राजनीति के नए संकेत दे दिए। सोमवार को विभा की विरोधी रही पार्षद प्रतिमा कुमारी व कनीज रजा सहित दर्ज भर पार्षद जो कभी उनके विराेधी थे,उन्होंने विभा कुमारी के पक्ष में वोट डाला और उन्हें जीत दिलाई।

नगर निगम के कुर्सी की सियासत खत्म नहीं हुई ,बल्कि अब शुरू होगी। कभी मेयर के चुनाव में पटखनी खाने वाली पूर्व मेयर व अभी बानी डिप्टी मेयर विभा कुमारी ने अपनी हार का बदला डिप्टी मेयर के चुनाव में खुद को आगे कर लिया। अब परिणाम आने के बाद आपसी सामंजस्य की बात कह रही हैं। अगर देखा जाए तो दिया गया बयान अपने आप में काफी कुछ कहता है। कहीं यह बयान मेयर की ओर इशारा तो नहीं की राजनीति में कुछ भी निश्चित नहीं है। दूसरीओर ,मेयर चुनाव के बाद डिप्टी मेयर का चुनाव काफी महत्वपूर्ण हो जाने के कारण बाजारों में इस बात की अटकलें भी तेज है कि नगर निगम में कुर्सी की सियासत खत्म नहीं बल्कि अब शुरू होगी। अगर चुनाव लोकल हो तो सभी लोगों की दिलचस्पी खास हो जाती है. क्योंकि इस चुनाव में सभी वोटर खुद को इससे जुड़ा हुआ महसूस करते हैं।

जैसे ही डिप्टी मेयर चुनाव का परिणाम विभा कुमारी के पक्ष में आया, वैसे ही समाहरणालय के मुख्य द्वार पर विभा कुमारी व जदयू नेता जितेंद्र यादव के नाम के नारे लगने शुरू हो गए । सभी समर्थक अबीर गुलाल के साथ माला लेकर स्वागत में खड़े दिखे। बीजेपी बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य प्रकाश जायसवाल समेत कई नेताओं ने उन्हें जीत की बधाई दी। इस मौके पर जदयू नेता भोला कुशवाहा, अविनाश यादव, बबलू चौधरी, अजय झा, अजय भगत,अरविंद जयसवाल, कुन्दन यादव, विवेका यादव, रामा शंकर यादव आदि उपस्थित थे।

नगर निगम में डिप्टी मेयर के पद पर विभा कुमारी का जीतन एक शुभ संकेत है। अब 24 वार्डों की नहीं बल्कि पूरे 46 वार्डों के विकास की बात होगी। मेयर के विकास कार्यों को और गति दी जाएगी ताकि पूर्णिया के आम आवाम को कोई परेशानी न हो पाए ।

 

 

न्यूज़ क्रेडिट: दैनिक भास्कर
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved