fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  

2019 में BJP को हराने में महागठबंधन की सबसे अहम भूमिका होगीः तेजस्वी यादव

विमर्श
1 year ago

पटना। महागठबंधन के शीर्ष नेताओं में बेहतर समन्वय है। बिहार की न्यायप्रिय जनता ने महागठबंधन की नीतियों और कार्यक्रमों को अपार समर्थन एवम अनंत सम्मान देकर ऐतिहासिक बहुमत दिया है। हमारा इस बहुमत के पीछे जनता के सरोकारों के प्रति पूर्ण समर्पण और प्रतिबध्ह्ता है। बीजेपी और उनके समर्थक संस्थानों को हमारी एकता हजम नहीं हो रही है।गठबंधन के भी […]

पिछडों के उन्नायक वीपी सिंह और आरक्षण का अधूरा सफ़र

विमर्श
1 year ago

आरक्षण के प्रणेता व उपेक्षितों के उन्नायक पूर्व प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह का रविवार को (25 जून 1931 – नवंबर 2008) 86वां जन्मदिन मनाया गया, जिन्होंने मंडल कमीशन के थोड़े हिस्से को लागू करते हुए पिछड़ों के लिए सरकारी नौकरियों में 27% आरक्षण की घोषणा की। 392 पृष्ठ की मंडल कमीशन की रिपोर्ट देश को सामाजिक-आर्थिक​ विषमता से निबटने का […]

ख़ूनी ईद, बहते आंसू, और सोते हम

विमर्श
1 year ago

  “खिज़ां में मुझको रुलाती है याद-ए-फ़स्ल-ए-बहार ख़ुशी हो ईद की क्योंकर के सोगवार हूं मैं” “शरजील ईमाम, मेरे भाई, ये क्या बात है कि आज ईद के दिन, यानी ख़ुशी के दिन तुम सोगवार हो? तुमको किस बात का ग़म है जिसका इज़हार अल्लामा इक़बाल के शेर के ज़रिये से कर रहे हो?” “साकिब सलीम, तुम मुझसे पूछ रहे […]

आपके डेयरी प्रोडक्ट में हमारे किसान भाईयों के खून का स्वाद तो नहीं?

विमर्श
1 year ago

बिहार के कथित सहकारी संस्था कम्फेड किसानों से न्यूनतम 18 रुपये प्रति लीटर दूध लेती है और उसी दूध को 40 रुपये प्रति किलो से अधिक में बेचती है। वहीं महाराष्ट्र में गाय के दूध की न्यूनतम कीमत 27 रुपये प्रति लीटर है। दूध के रखरखाव में इतने मार्जिन का खर्च होने का सवाल ही पैदा नहीं होता है। लेकिन […]

कश्मीर से बल्लभगढ़ तक फूल रहा नफरतों का कारोबार

विमर्श
1 year ago

चिदंबरम ने बतौर होम मिनिस्टर कभी कहा था कि देश में भगवा आतंकवाद फैल रहा है। मैंने उस वक्त उनके उस बयान की बड़ी निंदा की थी, क्योंकि वह सच नहीं था। लेकिन अभी अपने देश में जिस तरह एक भीड़ किसी को घेर कर इसलिए मार देती है कि उसने दाढ़ी रखी है… सिर पर टोपी है…और वह लोग […]

तुम्हारे कौन से मंदिर पर ऐसा तिरंगा है देशभक्तों?

विमर्श
1 year ago

क्रिकेट मैच पर पाकिस्तान की जीत पर मुस्लिम युवाओं द्वारा नारे लगाये जाने की प्रायोजित खबरें मीडिया बहुत चटखारे ले-ले कर छापता है। कभी-कभी तो हमारे बंदबुद्धि मीडियाकर इस्लाम के झंडे और पाक झंडे का फर्क भी भूल जाते हैं। वे एक धार्मिक ध्वज को दुश्मन देश का राष्ट्र ध्वज समझ कर ख़बरें चला देते हैं। बाद में सच्चाई सामने […]

मीडिया की स्वतंत्रता पर वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश उर्मिल की दर्द भरी टिप्पणी

विमर्श
1 year ago

तब और अब: सन् 1986 से पत्रकारिता में हूं। वैसे स्वतंत्र रूप से अखबारी लेखन की शुरुआत सन् 1983 में हो गई थी। शायद ही कभी किसी सत्ता की भजनमंडली में शामिल हुआ। दिल्ली, बिहार, यूपी, पंजाब और जम्मू कश्मीर की तमाम आई-गई सरकारों को जब कभी कुछ गलत या जनविरोधी करते देखा या पाया, हमेशा उनके ऐसे कदमों की […]

इंसाफ की तिजोरी का ऊंची जातियों की तरफ झुकाव

विमर्श
1 year ago

कुछ लोग कहते हैं कि इंसाफ की तिजोरी तथ्य, परिस्थिति और कानून पर अपनी कड़ी नजर रखती है, किसी व्यक्ति विशेष की ओर नहीं। लेकिन अगर भारतीय न्यायपालिका का रवैया देखा जाए तो यह बात केवल लेख, लेखनी और किताबों में लिखे जाने या फिर कुछ न्यायाधीशों एवं बुद्धिजीवियों द्वारा सार्वजनिक मंचों पर भाषण देने के योग्य प्रतीत होती है। […]

फूलन देवी: जाति और मर्द की सत्ता को एक चुनौती

विमर्श
1 year ago

फूलन देवी एक ऐसा नाम जिसे दुनिया के वंचितों के साथ बहुजन आबादी ने सराहा है, इतना ही नहीं इनकी गौरव गाथा को सलाम भी किया है। पूरी दुनिया के इतिहास में फूलन देवी को लौह महिला के रूप में देखा जा गया है। फूलन देवी की विद्रोही तेवर को दुनिया ने सराहा है। तभी तो दुनिया के नामचीन पत्रिका […]

विकास का मॉडल क्या होता है? आइये सरल भाषा में बात कर लें

विमर्श
1 year ago

विकास का मतलब? और भी अमीर हो जाना। अमीर हो जाना मतलब? मतलब हमारे पास हर चीज़ का ज़्यादा हो जाना। मतलब पैसा ज़्यादा, जमीन ज्यादा, मकान ज्यादा हो जाना? हाँ जी। आपका विकास हो जाएगा तो आपके पास ज्यादा पैसा आ जाएगा जिससे आप ज्यादा गेहूं, सब्जियां, ज्यादा वगैरह खरीद सकते हैं? हाँ जी। क्या आपके लिए प्रकृति ने […]

आरएसएस का ताजमहल कैसा है?

विमर्श
1 year ago

ताजमहल भारत में है, दुनिया भर से लोग उसे देखने भारत आते हैं। पर वह भारतीय संस्कृति का प्रतीक नहीं है। लालकिला भी भारतीय संस्कृति का प्रतीक नहीं है। इसके सिवा और भी बहुत सारी इमारतें हैं, जो आरएसएस और उनके नेताओं के लिए इसलिए भारतीय संस्कृति का प्रतीक नहीं हैं, क्योंकि इन सबके निर्माता मुस्लिम शासक थे। इसलिए वे […]

जाति विनाश- एक थकाऊ और अनावश्यक प्रोजेक्ट

विमर्श
1 year ago

आर्य आक्रमण थ्योरी सही हो या न हो, इतना तो पक्का हो चला है कि मूल रूप से इस देश में श्रमणों की संस्कृति थी जो पहले गंगा यमुना के संगम के इलाके से पूर्व की तरफ फ़ैली हुई थी। बाद में बौद्ध संस्कृति के रूप में इसका विस्तार कंधार बामियान तक हुआ। ये श्रमण असल में जैन, बौद्ध और […]

स्तनपान की कुंठा पर अनुराधा सरोज का जबरदस्त लेख

विमर्श
1 year ago

पिछले हफ़्ते एक कॉलीग अपनी बेटी को ऑफ़िस लाई थी। काम कर रही थी, बीच बीच में दूध पिलाती थी। कॉन्फ़्रेन्स कॉल के वक़्त दूसरा कॉलीग बच्ची को बाहर टहलाने ले गया। मैं अपनी नई-नई माँ बनी दोस्त को देखती हूँ, तो लगता है के पूरा दिन वो बस दो साँस अपने लिए ले सके तो काफ़ी है, और अब […]

पीरियड्स की समस्या पर लेखिका अनुराधा सरोज का जबरदस्त लेख.. जरूर पढ़ें

विमर्श
1 year ago

मुझे जब पीरियड्स शुरू हुए तो मेरी माँ ने मुझे पहले नहीं बताया था। जाने उन्हें कैसा संकोच था? मेरे लिए वो दुःख और परेशानी लेके आये थे, जैसे मैंने कोई बड़ा पाप कर दिया हो। मुझे याद है, मैं उस दिन भगवान की मूर्ति के आगे खूब रोई थी और मुझे फिर कभी पीरियड्स ना हों इसकी दुआ मांगी […]

मोदी ने शौच करती महिलाओं की फोटो लेने वाली ‘हत्यारी भीड़’ खड़ी कर दी

विमर्श
1 year ago

राजस्थान में सीपीआई-एमएल कार्यकर्ता जफर हुसैन को सरकारी कर्मचारियों ने इसलिए पीटकर मार डाला क्योंकि वो शौच कर कर रही महिलाओं का फोटो खींचने से मना कर रहे थे। वे महिलाएं जिस कच्ची बस्ती से आती हैं, वहां शौचालय न होने के बाबत वे पहले भी शिकायत कर चुके थे। यदि आपको यह बात अविश्वसनीय लग रही हो कि सरकारी […]

दिलीप मंडल के बीस सवाल, जो नरेंद्र मोदी से नहीं पूछता सेल्फी मीडिया

विमर्श
1 year ago

बीजेपी ने 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले अपने घोषणापत्र में भारत की जनता से कुछ वादे किए थे, जिन्हें पांच साल में पूरा किया जाना था। बीजेपी ने यह भी कहा था कि जो कहते हैं, वह करते हैं। बीजेपी ने जो कहा था, और नहीं किया, उससे संबंधित कुछ सवाल। ये सारे सवाल बीजेपी के 2014 लोकसभा चुनाव […]

और नेताजी के खाने के बाद दलित धन्य हो गया

विमर्श
1 year ago

नेताजी दलित के घर भोजन करने गए। उन्होंने अपनी एक करोड़ की कार को दलित के घर के सामने रोक दिया। और फिर उनकी गाड़ी के पीछे जो पचास – पचास लाख की गाड़ियां थी वे भी रुक गयीं। दलित घर के बाहर खड़ा था। उसके पैर कांप रहे थे। उसका दिल धड़क रहा था। उसकी गर्दन झुकी हुई थी। […]

यूजीसी के इस फैसले से बदल जाएगा भारत में उच्च शिक्षा का परिदृश्य

विमर्श
1 year ago

‘नीयत’ यानी इंटेंशन अगर सही नहीं हो तो भारतीय दर्शन परंपरा में महिमामंडित ‘न्याय’ और ‘नीति’ का समागम भी समतामूलक आदर्श समाज की संरचना नहीं कर सकता। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने ‘राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (नेट)’ में एससी, एसटी, ओबीसी व विकलांग वर्ग को दिये जाने वाले आरक्षण के नियम में भारी बदलाव किया है। नए नियम के अनुसार अब केवल […]

जब सरकार उपवास करने लगे तो विपक्ष को ज्यादा खाना चाहिए

विमर्श
1 year ago

मैं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा उपवास पर बैठने के निर्णय का हार्दिक स्वागत करता हूँ। हिंसा के सामने उन्होंने एक अहिंसक कदम उठाया है। आखिर वे मध्य प्रदेश की आत्मा हैं। जो आत्मा बेचैन होगी, वह शासन कैस कर सकती है? पहले कहा जाता था कि जब तोप मुकाबिल हो तो अखबार निकालो। लेकिन मध्य प्रदेश […]

सांप्रदायिकता से जूझने वाला सामाजिक न्याय का योद्धा..

विमर्श
1 year ago

पत्थर तोड़ने वाली भगवतिया देवी, जयनारायण निषाद, ब्रह्मानंद पासवान, आदि को संसद भेजने वाले, खगड़िया स्टेशन पर बीड़ी बनाने वाले विद्यासागर निषाद को मंत्री बनाने वाले एवं बिना डिगे सांप्रदायिकता से जूझने का माद्दा रखने वाले लोकप्रिय व विवादास्पद नेता लालू जी को 70वें जन्मदिन की बधाई व उनके आरोग्यमय जीवन की सद्कामनाएं ! यह तस्वीर है 90 और 91 […]

More Posts
alok verma

सीबीआई में भी सब कुछ मैनेज होता है ,वर्तमान विवाद को देखकर तो यही लगता है।

Amarpali groups

आम्रपाली ग्रुप की करतूतों ने रियल एस्टेट मार्केट के विश्वास को तहस नहस कर दिया।

Suhel Seth Mayawati

सुहेल सेठ से नाबालिग के साथ उत्पीड़न और मायावती के खिलाफ आपत्तिजनक ट्वीट पर प्रश्न क्यूँ नहीं किया जाना चाहिए?

Bijnor Railway Station, UP

उत्तर प्रदेश : भाजपा कार्यकर्ताओं ने बिजनौर का नाम बदलने की मांग उठाई, नाम बदलकर महात्मा विदुर नगर करने को कहा

akali dal mla manjinder singh

1984 सिख दंगो में दो लोग दोषी करार, भाजपा-अकाली विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने एक दोषी को मारा थप्पड़

gwalior janjatiye

पाँच महीनों से नहीं मिला दलित छात्र-छात्राओं को आवास का पैसा

index

भारत में बढ़ रही है बेरोजगारों की संख्या, नोटबंदी है एक बड़ा कारण

Amrapali

आम्रपाली ग्रुप पर सुप्रीम कोर्ट का शिकंजा, कोर्ट के कड़े सवालो से लौटी सीएफओ की ‘याददाश्त’

Dalal Street

कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट से शेयर बजार में आई बहार, सेंसेक्स 300 अंकों की बढ़त से खुला

SSC-vacancy

SSC 2018: स्टेनोग्राफर ग्रेड सी और ग्रेड डी के 1 हजार पदों पर आवेदन शुरू, उम्मीदवार ऐसे करें अप्लाई

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved