ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  

ठेठ लालू, शिक्षा और वंचित तबका…

विमर्श
1 year ago

क्रांति ज्योति ज्योतिबा फुले जी ने कहा है कि “विद्या के अभाव में मति गयी,मति के बिना नीति गयी, नीति के बिना गति गयी,गति के बिना वित्त गयी,वित्त के बिना शूद्रों की अधोगति हो गयी। इतने सारे अनर्थ एक अकेली अविद्या के कारण ही हुए।” बाबा साहब डॉ भीम राव अम्बेडकर साहब ने भी कहा है कि “शिक्षा वह शेरनी […]

इतिहास ठीक हो जाएगा, टीवी वाले भी हिन्दू मुस्लिम में बिजी हैं- रवीश कुमार

विमर्श
1 year ago

नोटबंदी श्रीदेवी की फिल्म नाकाबंदी की तरह फ्लाप हो गई है। सारे संकेत यही बता रहे हैं मगर कोई कहने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा है। रिज़र्व बैंक के पास कितने नोट लौट कर आए, अभी तक हार्डवर्क वाले बता नहीं पा रहे हैं। यह जानना इसलिए ज़रूरी है कि सरकार कोर्ट तक में कह चुकी है कि 15-16 […]

आपको उन्हीं चैनलों के पास अपनी समस्या लेकर जाना चाहिए जो सरकार के हाथों खेल रहे हैं- रवीश कुमार

विमर्श
1 year ago

राज्य सभा चुनाव से फुर्सत पाने के बाद अब तमाम मंत्री बेरोज़गार युवाओं के लिए मार्च करने वाले हैं। इसके लिए त्रिपुरा गुजरात के बाद दूसरे राज्यों के विरोधी दलों के विधायकों को तोड़ कर अपने पाले में मिलाया जाने वाला होगा। मीडिया इसे कमाल बताते हुए गुणगान करेगा। भारत की राजनीति का खेल सत्तर के दशक के स्तर से […]

क्या आरक्षण बचाने के लिए लालू फिर किसी रामजेठमलानी को वकील करें या योद्धा सड़क पर उतरें?

विमर्श
1 year ago

आज पढ़ने-पढ़ाने की संस्कृति को जिस तरह से कुप्रभावित किया जा रहा है, शोधकार्य के प्रति एक क़िस्म का उदासीन माहौल बनाया जा रहा है, समय पर फ़ेलोशिप नहीं दिया जा रहा है, छात्रों को तरह-तरह के हथकंडे अपनाकर हतोत्साहित किया जा रहा है, वो एक सुनियोजित षड्यंत्र का हिस्सा है। देश के विश्वविद्यालयों की जो हालत है, वहां शिक्षक-छात्र अनुपात संतुलित करने के नाम […]

मेनस्ट्रीम मीडिया ने जिनको साबित किया था आतंकी, ATS ने छोड़ दिया..

विमर्श
1 year ago

कहते हैं पुलिस रस्सी का सांप बना देती है, मगर हिन्दी जगत के कई मीडिया संस्थानो ने अब रस्सी का सांप बनाने में पुलिस को कई मील पीछे छोड़ दिया है। बीते छ तारीख को एटीएस ने देवबंद से कुछ छात्रों को पूछ ताछ के लिये हिरासत में लिया था। इनमें से पांच छात्रों दानिश,अब्दुल बासित,रहमान, अब्दुल रहमान, और आदिल […]

मंडल कमीशन के लिए खुद को दांव पर लगा गए थे लालू यादव

विमर्श
1 year ago

मैं यह कहूँ कि “मण्डल कमीशन” के लिए लालू प्रसाद यादव जी ने खुद को दांव पर लगा दिया तो कोई अतिशयोक्ति न होगी क्योकि मैं 1990 के मंडल आंदोलन का गवाह हूँ और इसके लिए डंडे खाने से लेकर जेल जाने, दिल्ली/लखनऊ/गोरखपुर/देवरिया में प्रदर्शन/रैली/आन्दोलन करने में शामिल रहा हूँ। मैं मण्डल आंदोलन के दौर में देवरिया युवा जनता दल […]

सामंती त्यौहार है रक्षा-बंधन, पितृसत्ता की जड़ों को देता है मजबूती

विमर्श
1 year ago

कितना सड़ा गला समाज है हमारा। दूसरों की नजरों के सामने हम कितने साफ कितने शरीफ बनते हैं, लेकिन हमारे दिलों में, हमारे घरों में कितनी गन्दगी भरी है इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है। हमारा समाज घोर पितृसत्तात्मक, पुरुष प्रधान और महिला विरोधी है, इस बात का अंदाजा इस तथ्य से लगाया जा सकता है कि प्रतिदिन 68 बलात्कार भारत […]

मंडल दिवस पर अखिलेश यादव के नाम खुला पत्र

विमर्श
1 year ago

आदरणीय श्री अखिलेश यादव जी, सादर जय भीम! जय मण्डल!! परमादरणीय श्री अखिलेश यादव जी! आरक्षण पर लम्बी प्रतीक्षा के बाद आपके इस बयान को पढ़कर कि “आबादी के आधार पर सभी जातियों को मिले आरक्षण”,खुशी हुई कि चलो देर से ही सही समाजवादी पार्टी ने आरक्षण पर मुंह तो खोला।हमारे पुरखो ने आरक्षण के बाबत यही नारा लगाया है […]

इस वरिष्ठ पत्रकार ने खोल दी नीतीश कुमार की पोल, जरूर पढ़ें…

विमर्श
1 year ago

पलटमारी के वक्त नीतीश कुमार की सबसे बड़ी दलील यही थी कि पिछले एक साल से उन्हें काम नहीं करने दिया जा रहा था! आज के अखबार में उन्होंने बिहार सरकार की एक योजना ‘बिहार स्किल डेवलपमेंट मिशन’ का भव्य विज्ञापन पेश किया है, विज्ञापनी-युद्ध के मैदान में, ठीक मोदीय आभामंडल की तरह! इसमें उन्होंने बताया है कि कैसे इस […]

तुम ही ग़लत हो क्योंकि तुम औरत हो

विमर्श
1 year ago

वर्णिका कुंडू ने अपनी आपबीती फेसबुक पर लिखी जिसके मुताबिक चंडीगढ़ की सड़कों पर उसका पीछा किया गया और ये घटना ‘पीछा’ तक ही सीमित रहकर अपहरण या बलात्कार सिर्फ़ इसलिए नहीं बनी क्योंकि वो कार भगाती रही और पुलिस समय रहते पहुँच गयी। लड़के एसयूवी कार में थे और लगातार उसका रास्ता रोकने की कोशिश करते रहे। वो लड़की […]

धर्म से भी तेज़ी से बढ़ रहे अफ़वाहों के ख़िलाफ़ जारी हों जनहित विज्ञापन!

विमर्श
1 year ago

भारतवर्ष को जनहित में जारी विज्ञापनों के तहत ऐसे विज्ञापनों की सख़्त ज़रूरत है जो अंधविश्वास और अफ़वाहों की ख़िलाफ़त कर जनमानस को सचेत करें। हमारा सामाजिक ढांचा ऐसा है कि हम सब जानते हुए भी अफ़वाहों को अगर स्वीकारते नहीं तो नकारते भी नहीं। जो अंधविश्वास फैले हुए हैं उन्हें मानते नहीं तो उनका विरोध भी नहीं करते और […]

बाबा साहेब से कूड़ा उठवाना मनुस्मृति का एक्शन प्लान है…

विमर्श
1 year ago

सवाल यह नहीं है कि एक अदने से स्टार्टअप अंत्योदय ग्रुप ने बाबासाहेब का अपमान करने की हिम्मत क्यों की? मेरा मुद्दा यह है कि ब्राह्मणवादी सरकार ने विरोध की गंभीरता और उससे जुड़ी आपत्तियों की संभावनाओं का पूरा आकलन करके ऐसे विवादास्पद कॉन्सेप्ट को प्लॉट क्यों करवाया? सरकार के कारिंदों और सत्तानशीनों ने ये क़वायद ठीक उस समय शुरू […]

पत्रकार की अपील- इस बार चुप ही रहिएगा प्रधानमंत्री जी….

विमर्श
1 year ago

70वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले की प्राचीर से बोलने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुझाव मांगे हैं। इसमें उन्होंने देशवासियों से पूछा है कि वे इस बार किस मुद्दे पर बोलें। ऐसे में पत्रकार प्रशांत तिवारी ने प्रधानमंत्री को अपनी इच्छा जताते हुए पत्र लिखा है। पढ़िए…. आदरणीय प्रधानमंत्री जी मुझे गर्व है आप पर और आपके बोलने […]

तलवार लिए ये बन्दरछाप नेता ही 2019 में बीजेपी का रथ रोकेंगे

विमर्श
1 year ago

अगर आज राज्यों के चुनाव हो जाएं तो नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में बीजेपी की जीत सुनिश्चित कही जा सकती है लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव में ऐसा नहीं होने जा रहा। और अगर मैं एक कदम आगे बढ़ के कहूँ तो मोदी जी की अगुवाई में बीजेपी की हार भी हो सकती है तो चौंकिएगा मत बशर्ते विपक्ष महागठबंधन […]

पंडावाद के दिमागी गुलाम भेड़ियों ने ले ली बूढ़ी विधवा की जान

विमर्श
1 year ago

इस सच की कल्पना कीजिए कि आपकी या मेरी बासठ साल की बूढ़ी मां शौच के लिए बाहर निकली, रास्ता भटक कर दूसरे मुहल्ले में चली गई… और वहां रात के अंधेरे में लोगों ने सफेद साड़ी वाली इस औरत को डायन बता कर लाठी-डंडों से मारना शुरू किया और मारते-मारते मार डाला। यह कल्पना करते हुए कैसा महसूस हो […]

प्रेमचंद के दलित पात्र कभी विद्रोह नहीं करते, यही उनका धर्म और संस्कृति चाहती थी

विमर्श
1 year ago

प्रेमचन्द से पहली बार ठीक से आम जनता का साहित्य आरंभ होता है। इसका श्रेय उन्हें दिया जाना चाहिए। साथ ही प्रेमचन्द स्वयं धर्म राष्ट्र और संस्कृति के मुद्दों पर कई बार दलित विरोधी, शूद्र विरोधी नजर आते हैं। उनके दलित पात्र कभी विद्रोह नहीं करते, यही प्रेमचन्द और उनका धर्म और उनकी संस्कृति चाहती थी/है। असल में प्रेमचन्द एकदम […]

राजनीति में विश्वासघात के लिए कुख्यात रहे हैं नीतीश कुमार!

विमर्श
1 year ago

जो लोग आज जदयू के अंदर नीतीश कुमार की ज़्यादती व शरद यादव की रहस्यमयी व मानीखेज चुप्पी को भावुकता के चश्मे से देखते हैं, वो शायद भूल रहे हैं कि अपने उन्नयन व पार्टी के अंदरूनी लोकतंत्र को कुचलने के लिए, विरोध के हर संभव स्वर को तहस-नहस करने हेतु नीतीश ने हर अनैतिक काम किया। जिस जॉर्ज फर्णांडीस […]

वो उस मां के जिगर का टुकड़ा था जो उसके सामने मांस का लोथड़ा बनके सड़क पर पड़ा था…

विमर्श
1 year ago

सरकार चाहे झारखंड की हो, गुजरात की हो या मध्य प्रदेश की हो एक चीज का ढिंढोरा खूब पीटा जाता है कि जच्चा-बच्चा की अच्छी देखभाल और स्वस्थ प्रसूति बहुत जरूरी है। इसके लिए तमाम नियम और कानून भी बने हैं, स्वास्थ्य सुविधाएं भी मुहैया कराई गई है। डॉक्टर और सहयोगी कर्मचारियों का अच्छा-खासा जखीरा है सरकार के पास। बेहिसाब […]

मोदीजी, क्या पनामा लीक्स के बारे में आपको कुछ नहीं पता?

विमर्श
1 year ago

ईमानदारी के नाम पर बिहार का तख्तापलट करने वाली भाजपा के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम वरिष्ठ लेखक काशीनाथ सिंह ने खुला पत्र लिखा है। आप भी पढ़िए… आदरणीय प्रधान मंत्री जी,  माफ़ कीजिएगा। पाकिस्तान की तारीफ़ कर रहा हूं। बुरा लगे तो और माफ़ कर दीजिएगा लेकिन आज पाकिस्तान की तारीफ़ का दिन है। पाकिस्तान ने साबित कर दिया […]

नीतीश कुमार के नाम दिलीप मंडल की खुली चिट्ठी

विमर्श
1 year ago

नीतीश जी, आप 2005 में पहली बार बिहार के मुख्यमंत्री बने। आपने बिहारियों को यह सपना दिखाया कि बिहार जो बहुत बदहाल है, उसे आप ठीक कर देंगे। आपके 2005 के घोषणापत्र में टर्नअराउंड शब्द है। आपने शिक्षा और स्वास्थ्य में चमत्कारिक बदलाव का वादा किया। उस समय की आपकी पार्टनर बीजेपी का भी यही वादा था। नीतीश जी, इस […]

More Posts
To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved