fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

आप नेता राघव चड्डा: हारने के भय से बीजेपी ने लाखों मतदाताओं के नाम मतदाता सूची से हटाए, पिछले एक वर्ष से ऐसा चल रहा है।

raghav-chadha
(Image Credits: Inkhabar)

दिल्ली में आप की सरकार ने बीजेपी पर आरोप लगाया है कि, उन्होनें मतदाता सूची में बड़े स्तर पर गड़बड़ी करी है। आप सरकार ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा है की उन्होनें दिल्ली में लाखों मतदाताओं के नाम मतदाता सूची से काट दिए हैं। आप पार्टी के कार्यकर्त्ता राघव चड्डा ने मंगलवार को संवाददाताओं से बात करते हुए कहा की दक्षिणी दिल्ली से लगभग एक लाख मतदाताओं के नाम हटा दिए गए हैं।

Advertisement

उन्होनें बताया की दिल्ली में व्यापक स्तर पर मतदाता सूची से छेड़छाड़ का मामला सामने आया हैं। दक्षिणी दिल्ली संसदीय क्षेत्र के प्रभारी से संभावित उम्मीदवार होने वाले राघव चड्डा ने बीजेपी पर आरोप लगाया है। और कहा है, भाजपा ने अपने हार के डर के कारण मतदाताओ के नाम मतदाता सूची से हटाना शुरू कर दिया है। राघव चड्डा ने कहा की ऐसा पिछले एक वर्ष से हो रहा है।

उन्होनें कहा की पिछले एक साल में दक्षिण दिल्ली लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत दस विधानसभा क्षेत्रों से हटाए गए मतदाताओं के नाम के आधार पर वो ऐसा कह रहे हैं। वो कहते हैं की, छतरपुर विधानसभा क्षेत्र में लगभग 7500, बिजवासन में 12 हजार और तुगलकाबाद में 6000 मतदाताओं के नाम मतदाता सूची से हटाए गए हैं। हर विधानसभा क्षेत्र से औसतन दस हजार मतदाताओं के नाम काटे जाने का उनके पास प्रमाण हैं।

साथ ही राघव चड्डा ने कहा कि आम आदमी पार्टी के समर्थकों की अधिकता वाले नगर निगम वार्ड से सर्वाधिक शिकायतें दर्ज की गई है। उन्होंने उन मतदाताओं के शिकायत का जिक्र किया। चुनाव आयोग ने मतदाताओं के उनके पते पर नहीं रहने का हवाला देकर उनके नाम मतदाता सूची से नाम काटे जाने का नोटिस दिया है।

राघव चड्डा ने कहा की इन लोगों ने चुनाव आयोग के नोटिस को गलत बताते हुए अपना प्रमाण पत्र स्थानीय अधिकारियों के समक्ष रखा। लेकिन इसके बाद भी इनकी नहीं सुनी गई। ‘आप’ नेता राघव चड्डा ने कहा कि मतदाता सूची निर्वाचन प्रणाली के निष्पक्ष होने का मुख्य आधार होती है। लेकिन ऐसे में मतदाता सूची में इतनी बड़ी गड़बड़ी होने के बाद चुनाव प्रक्रिया निष्पक्ष होगी या नहीं इसकी उम्मीद नहीं की जा सकती है।


उन्होनें कहा की वो इस मामलें में चुनाव आयोग के सामने सभी सबुतों को सामने रखेंगें। और साथ में उन्होनें, चुनाव आयोग से पिछले एक साल में मतदाता सूची से हटाए गए मतदाताओं के नामों को दोबारा जोड़ने की मांग की है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved