fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

मायावती का बड़ा बयान – बसपा अब सीटों के लिए नहीं फैलाएगी किसी के भी सामने हाथ

mayawati

बसपा के संस्थापक काशीराम की मंगलवार को बारहवीं पुण्यतिथि के मौके पर बसपा अपने 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए पूरी तैयारी में जुट गयी है। बसपा सुप्रीमो मायावती अपने खोये हुए जनाधार को वापस लाने और दलित वोटबैंक को भी साधने में कोई कमी नहीं छोड़ना चाहती।

Advertisement

मायावती ने यह ऐलान करते हुआ कहा है की बसपा इस लोकसभा चुनाव में सीटों के लिए किसी नसे भीख नहीं मागेंगी। चुनावी गठबंधन के लिए उनकी पार्टी ने सम्मानजनक सीटें मिलने की शर्त रखी है। यदि बसपा किसी अन्य पार्टी गठबंधन नहीं करती है तो वह अपने बूते पर ही चुनाव लड़ती रहेगी।

पिछले चुनावी नतीजे भले बसपा के पक्ष में न रहे हो, पर चुनाव में जीत के लिया बसपा किसी ऐसे राजनैतिक दल के साथ हाथ नहीं मिलयेंगी जिससे पार्टी में मतभेद पैदा हो। पार्टी अपने सिद्धांतो पर कायम रहेगी। दिल्ली में गुरुद्वारा रकाबगंज रोड स्थित बहुजन प्रेरणा केंद्र में ही मायावती ने यह भी कहा की बसपा दलितों, आदिवासियों, पिछड़ों, मुस्लिम तथा अन्य धार्मिक अल्पसंख्यकों के साथ ही अपरकास्ट, गरीबों, मजदूरों, किसानों के सम्मान व स्वाभिमान से कभी समझौता नहीं कर सकती।

उन्होंने यह भी कहा की बसपा के समक्ष भले ही मौजूदा सरकार और कांग्रेस कितनी भी साजिश रच ले पर बसपा ना टूटेगी और ना ही झुकेगी। बसपा अपने चुनावी मुद्दों और जनता के लिए हित के लिए काम करती रहेगी। हर सत्ता और षड्यंत्र का सामना करते हुए सत्ता की मास्टर चाबी प्राप्त करके ‘अपना उद्धार स्वयं करने’ के मिशनरी लक्ष्य को पाने का जीतोड़ प्रयास करती रहेगी। भाजपा और कांग्रेस भले ही हमारे सिद्धांतो और नेतृत्व को राजनैतिक तौर पर कमजोर करने का असफल प्रयास करती रहे चाहे कितने भी हथकंडों का इस्तेमाल कर ले पर बसपा इन सभी हथकंडों का सावधानी के साथ जवाब देगी।

मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश की सत्ता में चार बार रहते हुए भी उन्होंने कभी कानून का गलत तरीके से इस्तेमाल होने नहीं दिया। वह चाहती कि किसी भी कानून का सरकारी मशीनरी के हाथों दुरुपयोग हो, भले वह ससी-एसटी कानून ही क्यों न हो, सभी को न्याय का सामान अधिकार प्राप्त है। उनकी सरकार हमेशा साफ तौर पर मजलूमों के साथ खड़ी दिखाई देती थी, न कि जालिमों के साथ। उन्होंने सीधे तौर पर उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा की आज प्रदेश में हर तरफ भय का माहौल है। कानून की धज्जिया उड़ाई जा रही है , जनता त्राहि-त्राहि कर रही है। ऐसे माहौल से लोगो को बचाना अब ज्यादा ज़रूरी हो गया है इसमें बसपा की भूमिका सर्वाधिक महत्वपूर्ण है।


1 Comment

1 Comment

  1. Jitender Singh

    October 9, 2018 at 6:40 pm

    Protestant Hindu versus Vedik Hindu is new agenda in next election to solve problems of all classes. Red Indians are tribes of U. S. A. One of them welcomed new European businessmen when they reached Latin America. They were Spain natives. Red Indian gave them respect love and partnership in their agriculture products. New income source invited more European countries. After years Red Indian were slave and lost their freedom. Day to day maximum land possessed by European Farmers used to earn more prophet but no share for poor red Indian. After 150 years their population was about 35 lace. Whole Latin America and North America tribled population was about 7 crore.they were killed by Europeans ,poor life and lowest basic needs of life. No doctor no cure no food no freedom. After freedom U. S. A President was informed to solve and to save their culture and life.for them area reserved called Reservation .Where they can live as they wish far from new moden life. U. S. A basic culture is derived from early Red Indians.Protestant Christians were fighting against Church. They created new culture for every class and respect to live self respect. Other countries natives also came those ideology could not match religious and rule.Baba Sahib was educated from U. S. A. He wrote a memorundom to British Govt to decide a new name in New constitution. Protestant Hindu was one name he proposed with some other names. A shoemaker from England Father William Very is known as Father of modern protestant misson.who came India in 1793.He translated maximum Sanskrit Literature into English and exposed it to show Indian caste system. Custom and religion. Today Education system ,Banking and agriculture are given by Him. We Sc/st
    are Protestant Hindu. We should connect to world wide developed society Protestant. Maximum population in European countries are Protestant who has searched new culture in the world. Indian Govt purchases new technology and Fighter aeroplanes.Five more top culture are from there. You can not win religious battle through Old Swords. New name Protestant Hindu will give you a new image in the world .Reservation is not solve your whole economy problems.we want to form our Government and a New Nation for every one. It is historical cultural transformation requirement. Stop to blame other create new culture values which is more advanced then Manuvad. it is my thought for Manywer Saheb KanshiRamJi who burned Poona Pact To escape from Reservation. It is derived from Red Indian Policy. We are real Hindu as British Govt told Baba Sahib and declared Hindu. First we should fight for political power to control all institutions. JaiBhim. BahenJi nextP. M.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved