ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

फोर्ब्स की करप्ट देशों की सूची में भारत नम्बर वन, कुमार विश्वास ने सरकार पर कसा तंज

kumar-vishwash

नई दिल्ली। फोर्ब्स ने एशिया के करप्ट पांच देशों की सूची जारी की है जिसमें भारत शीर्ष पर है। इसको लेकर सोशल मीडिया के प्लेटफॉर्म्स पर जमकर बहस शुरु हो गई है।  रिपोर्ट के अनुसार घूसखोरी के मामले में भारत ने वियतनाम, पाकिस्तान और म्यांमार को भी इस मामले में पीछे छोड़ दिया है।

इसको लेकर ही आप नेता व कवि कुमार विश्वास ने भी ट्वीट किया है और सरकार पर तंज कसा है। कुमार विश्वास ने लिखा है कि पहले ही कहा था कि नंबर वन बना दूंगा, बना दिया। कुमार विश्वास के इस तंजभरे ट्वीट पर बहुत से लोगो ने प्रतिक्रिया दी है।

वही सोशल नेटवर्किंग साइट पर पत्रकार उमाशंकर सिंह ने अपने ट्विटर हैंडल से लिखा-

ट्विटर यूजर @RoflCritic ने मोदी सरकार और समर्थकों पर तंज कसते हुए लिखा, भारत एशिया का सबसे भ्रष्ट देश लेकिन मेरे पप्पा जी बहुत अच्छा काम कर रहे उन्हें कुछ मत बोलो। इस पर ट्विटर हैंडल @RofiBhakt_ ने मजाकिया लहजे में जवाब देते हुए लिखा , घबराने की कोई बात नहीं है, जी न्यूज वाले अपने सैनिक हैं न वो लोग अपने शो में फोर्ब्स को सबसे घटिया, बिकाऊ और दलाल मैग्जीन घोषित कर देंगे।

हालांकि जो स्टोरी फोर्ब्स ने शेयर की है वह मार्च 2017 की है। इसमें भारत को सबसे भ्रष्ट देश बताया गया है और पाकिस्तान इस लिस्ट में चौथे नंबर पर है। इस लिस्ट में पहले नंबर पर भारत, दूसरे पर वियतनाम, तीसरे पर थाईलैंड चौथे पर पाकिस्तान और पांचवें नंबर पर म्यांमार है।

लिस्ट में वियतनाम भारत के बाद है जहां घूसखोरी की दर 65 प्रतिशत है जबकि पाकिस्तान 40 प्रतिशत के साथ चौथे नंबर पर है। 18 महीने चला ट्रांसपरेंसी इंटरनेशनल का सर्वे 16 देशों के 20,000 लोगों पर किया गया है। बर्लिन स्थित वाचडॉग ने भारत को पिछले साल 168 देशों में 76 वें स्थान पर रखा था। सर्वे के अनुसार भारत में सबसे ज्यादा घूस स्कूलों में (58%) और स्वास्थ्य सेवाओं में (59%) दी जाती है।

हालांकि फोर्ब्स द्वारा अपनी पुरानी स्टोरी को आज फिर से ट्वीट करने पर सवाल उठने लगे हैं। एक तरफ जहां नोटबंदी को लेकर सरकार पर सवाल उठ रहे हैं ऐसे में इस लिस्ट का दोबारा जारी होना भी चर्चा का विषय है।

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved