fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
खेल

BCCI सेलेक्शन पैनल के पास नहीं है पर्याप्त अनुभव- सैयद किरमानी, जानिए क्या है पूरा मामला

syad kirmani

बीसीसीआई के पूर्व राष्ट्रीय चयनकर्ता सैयद किरमानी ने बताया कि एमएसके प्रसाद की अगुवाई वाली चयनसमिति के पास मुख्य कोच रवि शास्त्री और विराट कोहली को चुनौती देने के लिए पर्याप्त अनुभव नहीं है। इस पूर्व विकेटकीपर की यह टिप्पणी करूण नायर और मुरली विजय को टेस्ट टीम से बाहर किए जाने को लेकर उठे विवाद के संदर्भ में आई है।

Advertisement

किरमानी से जब चयन विवाद पर पूछा गया, उन्होंने कहा, ‘अगर आप मुझसे पूछ रहे हो तो रवि शास्त्री कोच होने के कारण मुख्य चयनकर्ता है। वह और कप्तान तथा अन्य सीनियर सदस्य मिलकर चर्चा करते हैं और (वे जो चाहते हैं) उसके बारे में चयनसमिति को अवगत करा देते हैं।’

नायर और विजय दोनों ने दावा किया है कि टीम से बाहर करने के फैसले से पहले चयनकर्ताओं ने उनसे बात नहीं की जिसका प्रसाद ने खंडन किया है। उन्होंने कहा कि इन दोनों बल्लेबाजों को इसकी जानकारी दी गई थी।

पांच सदस्यीय चयनसमिति अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेलने के हिसाब से कम अनुभवी है। मुख्य चयनकर्ता प्रसाद ने छह टेस्ट और 17 वनडे खेले हैं। अन्य चार चयनकर्ताओं में शरणदीप सिंह (दो टेस्ट, पांच वनडे), देवांग गांधी (चार टेस्ट, तीन वनडे), जतिन परांजपे (चार वनडे) और गगन खोड़ा (दो वनडे) शामिल हैं और जाहिर है कि इन सभी को कोई खास अनुभव नहीं है।

किरमानी ने कहा, ‘चयन में भाग्य भी अहम भूमिका निभाता है। मेरा उदाहरण देख लो। मैं जब अपने करियर के चरम पर था तब मुझे बाहर कर दिया गया।’ किरमानी ने 88 टेस्ट मैच खेले जिनमें से आखिरी टेस्ट उन्होंने 1986 में खेला था।


भारत के सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपरों से में एक किरमानी ने रिषभ पंत के बारे में कहा कि अभी उन्हें विकेटकीपिंग की बेसिक्स सीखनी है। किरमानी ने कहा, ‘विकेटकीपिंग में अभी उसकी शुरुआती कक्षा चल रही है। वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अभी शुरुआत कर रहा है। दुर्भाग्य से अब कोई भी कोच तकनीक के बारे में बात नहीं कर रहा है। प्रदर्शन मायने रखता है और महेंद्र सिंह धौनी ने इसे साबित किया है। युवा खिलाड़ी बल्लेबाजी और विकेटकीपिंग दोनों में धौनी का अनुसरण कर रहे हैं।’

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

0
To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved