ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
Uncategorized

योगीराज: दलित सफाईकर्मी ने नहीं दिया मोबाइल तो चप्पलों से की पिटाई

रायबरेली। यूपी में वैसे तो दलितों और महिलाओं की स्थिति कभी भी अच्छी नहीं रही है लेकिन जबसे योगी आदित्यनाथ की सरकार बनी है दलितों और महिलाओं की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। ताजा मामला यूपी के रायबरेली जिले से आई है जहां एक दलित सफाईकर्मी को चपरासी का मोबाइल लाकर न देना भारी पड़ गया।

खास बातें-

  1. दलित सफाईकर्मी ने मोबाइल नहीं दिया तो चप्पलों से की पिटाई
  2. सफाई हो जाने के बाद मोबाइल लाने के लिए कहा था
  3. आस-पास खड़े लोग देखते रहे तमाशा किसी ने नहीं बचाया

मीडिया रिपोर्स के अनुसार, रायबरेली थाना क्षेत्र के सगुनी गांव निवासी बृजेंद्र कोरी विकासखंड के गोना मऊ गांव में बीती कई वर्षों से सफाई कर्मी के पद पर तैनात है। उक्त सफाई कर्मी 16 अगस्त की सुबह विद्यालय में सफाई का कार्य कर रहा था इसी दौरान जूनियर विद्यालय में तैनात उन्नाव जनपद के मलौना गांव निवासी परमिल सिंह पुत्र जयनारायण सिंह ने सफाईकर्मी से मोबाइल उठा कर लाने की बात कही।

पढ़ें- दलित मां-बेटे को निर्वस्त्र कर पीटने के मामले में कोर्ट ने 17 लोगों को भेजा जेल

जिस पर उसने सफाई हो जाने के बाद मोबाइल लाने के लिए कह दिया यह बात उसे नागवार लगी वह गुस्से से आग बबूला हो सफाई कर्मी को पीटने लगा। सफाईकर्मी ने यह भी आरोप लगाया कि वह अपने बचाव के लिए चिल्लाता रहा लेकिन किसी ने बचाने की जहमत नहीं उठाई किसी तरह पीड़ित ने ग्राम प्रधान को घटना की जानकारी दी।

पढ़ें- गुजरात के आणंद में फिर उना कांड: दलित मां बेटे को नंगा कर पीटा

प्रधान ने मौके पर जाकर घटना के संबंध में जानकारी की तो उक्त चपरासी प्रधान पर भी अपना रौब झाड़ने लगा। किसी तरह जान बचाकर सफाई कर्मी विकास खंड कार्यालय पहुंचा और आप बीती अपने साथियों से बताई जिस पर सफाईकर्मी ने साथियों के साथ पहुंचकर खीरो थाने पहुंच घटना की लिखित शिकायत की। इस बाबत थानाध्यक्ष खीरो संजय सिंह ने बताया कि तहरीर मिली है आरोपी को बुलाया गया है, उचित कार्यवाही की जाएगी।

 

 

Latest अपडेट के लिए National Dastak पेज को Like और Follow करे

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved