fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

आंध्र प्रदेश में बाबा साहेब की प्रतिमा को किया गया क्षतिग्रस्‍त, तोड़ दिए नाक और कान

baba-sahebs-statue-damaged-in-andhra-pradesh
(Image Credits: Free Press Journal)

आंध्र प्रदेश के पेडागंतयाडा इलाके में बाबा साहेब की प्रतिमा को कुछ अज्ञात उपद्रवियों ने क्षतिग्रस्‍त कर दिया। बाबा साहेब की प्रतिमा के नाक और कान तोड़ दिए गए। प्रतिमा को बुरी तरह से क्षतिग्रस्‍त किया गया है न्‍यूज एजेंसी ‘ANI’ के अनुसार, मूर्ति को क्षतिग्रस्‍त करने की यह घटना आंध्र प्रदेश के पेडागंतयाडा इलाके की है।

Advertisement

पेडागंतयाडा इलाका विशाखापट्टनम जिले स्थित है। यह विशाखापट्टनम जिले के 46 मंडलों में एक है। इससे पहले भी कई बार बाबा साहेब की प्रतिमा को क्षतिग्रस्‍त करने का मामला सामने आया है। विशाखापट्टनम में ही कई महापुरषो की मूर्ति पर हमले की ख़बर आई है। अक्‍टूबर महीने में इसी जिले के मधुरवाड़ा इलाके में अज्ञात उपद्रवियों ने 150वीं जयंती से ठीक एक दिन पहले राष्‍ट्रपिता महात्‍मा गांधी की प्रतिमा को तोड़ दिया था।

महात्मा गाँधी की प्रतिमा को क्षतिग्रस्‍त करने के बाद इलाके की पुलिस ने इस मामले में छानबीन कर केस भी दर्ज किया था। जहां पर गाँधी जी की प्रतिमा मौजूद थी वही पंडित जवाहरलाल नेहरू, सुभाष चंद्र बोस, डॉक्‍टर भीमराव अंबेडकर और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की भी प्रतिमा मौजूद थी। उस समय भी उपद्रवियों ने गाँधीजी की प्रतिमा को निशाना बनाया था।


आपको बता दे की बीते कुछ महीनों में विभिन्न महान विभूतियों की प्रतिमा को नुकसान पहुचने की कई घटनाये सामने आई है। अब उपद्रवियों ने बाबा साहेब की मूर्ति को निशाना बनाया है।

त्रिपुरा में तोड़ी गई थी लेनिन की प्रतिमा:

भारतीय जनता पार्टी के सत्ता में आने के बाद त्रिपुरा में कुछ दिनों के भीतर ही महान साम्‍यवादी नेता लेनिन की प्रतिमा को तोड़ डाला गया था। इस पर काफी राजनीतिक विवाद भी हुआ था। बीजेपी पर विपक्षी दलों ने मूर्तियों को क्षतिग्रस्‍त करने का भी आरोप लगाया था। महात्‍मा गांधी की प्रतिमा को आंध्र प्रदेश के अलावा राजस्‍थान और केरल में भी तोड़ा गया था। उपद्रवियों ने राजस्‍थान के राजसमंद के नाथद्वार में गांधीजी की प्रतिमा के साथ छेड़छाड़ की थी। वहीं, मार्च महीने में अराजक तत्‍वों ने केरल के कन्‍नूर के थालिपरंबा में महात्‍मा गांधी की मूर्ति तोड़ डाली थी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved