fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

दलितों को आकर्षित करने के लिए 5000 किलो खिचड़ी बनवा रही है भाजपा

(Image Credits: IndiaTV)

देश के दलितों को लुभाने के लिए भाजपा दिल्ली के रामलीला मैदान में 5000 किलो खिचड़ी बनवा रही है। रामलीला मैदान कई बड़ी राजनीतिक रैलियों का गवाह रह चुका है तो इसी प्रकार आने वाले कुछ दिनों में रामलीला मैदान भगवा गढ़ और दिल्ली बीजेपी का कैंप बनने जा रहा है।

Advertisement

रविवार से लगभग तीन सफ्ताह तक यहां भाजपा के मेगा इवेंट होने जा रहें है। रविवार को भाजपा ने दलित समाज को अपने पक्ष में जुटाने के भीम महासंगम का आयोजन किया है। इस कार्यक्रम में एक ही बर्तन में 5000 किलो खिचड़ी तैयार की जायगी। भाजपा इसके जरिए सामाजिक समरसता का संदेश देने की तैयारी में है। इस खिचड़ी को जाने माने शेफ विष्णु मनोहर तैयार करेंगे।

खिचड़ी इवेंट के बाद पार्टी के कार्यकर्ता 11 और 12 जनवरी को राष्ट्रीय नेताओं के सम्मेलन की तैयारी में जुट जायेंगे। इस कार्यक्रम में देश भर से निर्वाचित हुए प्रतिनिधि और राज्य कार्यकारिणी के कार्यकर्ता जुटेंगे। इस कार्यक्रम के बाद भाजपा 20 जनवरी को पार्टी युवा संकल्प रैली का आयोजन करने वाली है।

इस कार्यक्रम में पार्टी के नेताओं द्वारा युवाओं को संबोधित किया जायगा। इस तरह भाजपा एक कार्यक्रम से दलितों को साधेगी और दूसरे से युवाओं को। एकअतिरिक्त कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया है जिसमें नेताओं के मथन और पार्टी के विजन पर चर्चा होगी।

पार्टी नेताओं का कहना है कि ‘भीम महसंगम’ यूनिक इवेंट है। इसमें बनने वाली 5,000 किलो खिचड़ी गिनेस बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कराएगी। शेफ मनोहर ने इससे पूर्व नागपुर में 3,000 किलो खिचड़ी तैयार करी थी, जिसे रिकॉर्ड बुक में जगह मिली। खिचड़ी 15 फ़ीट चौड़े और 15 फ़ीट लम्बे प्लैटफॉर्म पर तैयार की जायगी, जिसके लिए कई गैस स्टोव लगाय जाएंगे।


दलित समाज से ही जुटाया था खिचड़ी के लिए दाल चावल

दिल्ली भाजपा के मीडिया सयोंजक अशोक गोयल बताते हैं कि बीते कुछ दिनों में दलित समाज के लोगों से ही 10,000 किलो चावल और दाल जुटाया है। इसके आलावा खिचड़ी में डलने वाली बाकि सामग्री टमाटर, अदरक, प्याज और नमक आदि की व्यवस्था पार्टी अपनी तरफ से करेगी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved