fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

बुलंदशहर हिंसा कांड में चार गिरफ्तार, मुख्य आरोपी बजरंग दल का संयोजक फरार

bulandsehar voilance bajrang dal

बुलंदशहर मामले में पुलिस की टीमों ने देर रात तक दबिशों का दौरा किया और तीन आरोपियों को हिरासत में लिया हैँ। बताया जा रहा है की मुख्य आरोपी बजरंग दल का सयोजक है जिसकी अभी पुलिस तलाश कर रही है। पुलिस पर तलाश के दौरान कई घरों में तोड़फोड़ करने का आरोप है।

Advertisement

हिंसा मे शहीद हुए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के पार्थिव शरीर को पुलिस लाइन में सलामी दी गई। हमले में मृत युवक के परिजनों ने अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया। प्रशासन के आश्वासन देने के बाद देर शाम को अंतिम संस्कार किया गया। हिंसा के दौरान मारे गए युवक सुमित के परिजनों ने पुलिस पर सुमित की हत्या करने का आरोप लगाया है।

bulandsehar voilance-4 arrest

मृतक के पिता अमरजीत सिंह ने बताया की वह और सुमित चिंगरावठी चौकी के पास उसके दोस्त को छोड़ने के गए थे। वह पहले से ही गौकशी को लेकर हंगामा चल रहा था। जिसमे पुलिस और हिंसक हुई भीड़ के बीच झड़प चल रही थी इसी दौरान पुलिस की तरफ से चली गोली उसके लग गई और सुमित की मृत्यु हो गई।

परिजनों ने पुलिस प्रशासन पर अपने बेटे की मौत का आरोप लगाया है और परिजन अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतज़ार कर रहे है। जबकि इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आने के बाद ही चौकी इंचार्ज की तहरीर के आधार पर देर रात 27 लोगों को नामजद कर व अन्य 50-60 अज्ञात आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली गई।


bulandsehar voilce 4 areest by police

पुलिस ने गशत कर तीन आरोपियों को इस मामले में गिरफ्तार कर लिया है जिसमे चमन, देवेंद्र निवासी गांव नया बांस व आशीष चौहान को गिरफ्तार किया गया है। जबकि, मुख्य आरोपी बजरंग दल के जिला संयोजक योगेश राज की अभी गिरफ्तारी नहीं हुई है। मृत युवक के परिजनों ने अपने बेटे की मौत के बाद प्रशासन से 50 लाख रुपये की मांग करी है और साथ ही परिवार में एक व्यक्ति को नौकरी देने की भी मांग रही है।

सुमित ने परिजनों ने अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया था उन्होंने कहा की जब तक सभी मांगो को पूरा नहीं किया जायेगा तब तक वह सुमित का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। प्रशासन ने परिजनों को पांच लाख रुपये देने की बात कही। उनकी अन्य मांगे शासन तक पहुंचाने का भी आश्वासन दिया। उसके बाद सुमित का अंतिम संस्कार किया गया।

दबिश से गांवों में दहशत, पुलिस ने की तोड़फोड़

bulandsehar voilance

चिंरावठी घटना में दर्ज की गई एफआईआर में 27 नामजद सहित तकरीबन 60 अज्ञात लोग हैं। जिसकी वजह से पुलिस हर घर में जाकर छापेमारी कर रही है। 17 अलग-अलग धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस की छह बड़ी टीम दबिश में लगी है। आरोप है की पुलिस ने दबिश के नाम पर कई घरो में तोड़फोड़ भी करी है। दबिश के भय से गांव के पुरुष लगभग गायब हो गए हैं। महिलाएं और बुजुर्ग ही गांव में नजर आ रहे हैं। आरोपी व अन्य पुरुष कहां है इसकी जानकारी न तो पुलिस को लग पा रही है और न ही कोई ग्रामीण किसी को जानकारी दे पा रहा है। फिलहाल पुलिस नामजद व अज्ञात की तलाश में लगातार छापेमारी कर रही है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved