fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

राजस्थान में महिला ने बीजेपी नेताओं सहित पुलिस के उच्च अधिकारी पर लगाया घिनौना आरोप

In-Rajasthan,-the,-woman -accused,-Abominable,-charge,-on,-the,-senior,-police,-officer,,-including,-the-BJP-leaders
(Representational Image) (Image Credits: Gender Creative Life)

राजस्थान में साल 2011 के दौरान सामने आए एक मामले ने पुरे राज्य को हिला कर रख दिया था, भंवरी देवी और पारस का मामला अभी थमा भी नहीं कि एक और सीडी ने राजस्थान की राजनीति को गरमा दिया। भले ही इस बार सीडी की धार पर बीजेपी के नेता खडे है, लेकिन भंवरी से लेकर अब तक ना जाने कितनो को इन सियासी दरिंदो का सामना करना पड़ा है।

Advertisement

घटना बड़ी शर्मनाक और दिल दहला देने वाली है , पर सच्चाई भी यही है, की कैसे यह नेता किसी के सगे नहीं , राजनीति में बड़ा कद पाने के लिए यह नेता किस हद तक जा सकते है यह इस घटना से पता चलता है।

खुद को बीजेपी का नेता बताने वाले एक जालिम पति ने अपनी ही पत्नी को नेताओं और पुलिस अफसरों के सामने परोसा। फिर उसकी एक दो नहीं, बल्कि 43 सिडिया बनाई और उसे ब्लैकमेल करने लगा। उसी पीड़ित महिला ने अदालत में गुहार लगाई कि कैसे पूर्व सांसद, मंत्री और बीजेपी के दूसरे नेताओं ने एक नहीं बल्कि बार-बार उसकी इज़्ज़त को रौंदा।

राजस्थान के इस 9 साल पुराने बहुचर्चित मामले में जिस सबसे बडी शख्सियत पर उंगली उठी, वो हैं बीजेपी के पूर्व सांसद निहालचंद मेघवाल। निहालचंद श्रीगंगानगर से दो बार बीजेपी के सांसद रह चुके हैं और एक बार वो रायसिंह नगर से बीजेपी के विधायक भी रह चुके है ।

राजस्थान की भैरों सिंह शेखावत सरकार में आयुर्वेद मंत्री रहे जोगेश्वर गर्ग पर भी इस महिला ने, उसके साथ संबंध बनाने का आरोप लगाया है। जालोर से दो बार बीजेपी के टिकट पर गर्ग विधायक रह चुके हैं।


बेवफाई और रुसवाई के परदे में सुबकती इस महिला की आंसुओं ने राजस्थान की राजनीति में आग लगा दी है लेकिन इस बेबस महिला की खुशियों में आग लगायी खुद इसके पति ने। हरियाणा के सिरसा की रहने वाली इस महिला का आरोप था कि इसका पति ही इसकी अस्मत का सौदागर बन गया।

महिला ने अपने बयान में बीजेपी के कई नेताओ के नाम लिए जिन्होंने इस महिला की आबरू के साथ खिलवाड़ किया, राजस्थान यूनिवर्सिटी छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष और बीजेपी के छात्र नेता पुष्पेंद्र भारद्वाज और बीजेपी के कई बड़े नेताओं के निजी सहायक रहे विवेकानंद का नाम इस महिला ने लिया है, इनके अलावा राजस्थान पुलिस के DSP अनिल राव और इंस्पेक्टर महावीर का भी नाम इसमें शामिल है।

कोर्ट ने इस मामले में अभी 18 लोगो को नोटिस जारी किया है. पीड़ित महिला का आरोप है कि घर में कैमरे लगे थे और पति जबरन नशे की दवाई खिलाकर उसे दरिंदो के आगे परोस देता था और उसकी सीडी बनाता था। महिला का आरोप है कि उसे बंद कमरे में रखा जाता था, ताकि उसकी आवाज बाहर ना आ सके।

सूत्रों के अनुसार इस पीड़ित महिला की शादी 20 दिसंबर 2010 को हनुमानगढ़ जिले निवासी ओम प्रकाश गोदारा से हुई थी। एक अच्छा घर-परिवार पाकर इसको सातो जहां की खुशियां मिल गयी थी। लेकिन इसे क्या पता था कि जिस शख्स ने इसका हाथ पकड़ा है, वही इसे देह व्यापार की दलदल में धकेल देगा। गोदारा अपनी पत्नी को शादी के तुरंत बाद ही अपने सियासी आकाओं को परोसने लगा।

अब सवाल उठता है कि जब इस महिला ने अपने पति का क्रूर चेहरा देख लिया तो फिर महीनों तक मौन क्यों रही। इस महिला का कहना है कि ये मुझे जान से मारने की धमकी देता था, हमेशा मुझे एक कमरे में बंद रखा जाता था , फोन या मोबाइल को भी छूने तक नहीं दिया जाता था।

महिला का दावा है कि एक दिन वो पति के चंगुल से भाग गई। तब इसके पति ने इसके चाचा पर हनुमानगढ़ में अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया। इसके बाद महिला ने भी सिरसा के डबवाली में पति पर बलात्कार और देह व्यापार कराने का मुकदमा दर्ज कराया। बाद में 6 नवंबर को उसने जयपुर में 18 लोगों के खिलाफ बलात्कार की शिकायत पुलिस को दी, इस महिला के आरोपों ने राजस्थान सियासत और गरमा दिया है। यह पूरा मामला अभी कोर्ट में चल रहा है और इस पुरे मामले पर अगली सुनवाई कोर्ट मई में करेगा.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved