fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

महाराष्ट्र: महिला डीएसपी का वीडियो वायरल, कहा- दलितों का हाथ पैर बांधकर उनके ऊपर एट्रोसिटी एक्ट का गुस्सा निकालती हूँ।

The-viral-Video-DSP,-said, "By-tying up-the-hands-of-the-Dalits, I-take-it-out-on-Dalits.
(Image Credits: theindianwire)

महाराष्ट्र से एक महिला पुलिस का एक वीडियो सामने आया है। जिस वीडियो से सनसनी मच गई है, इस वीडियो में महिला पुलिस ऑफिसर ने दलितों को लेकर काफी आपत्तिजनक बयान दिया है। इस वीडियो के वायरल होने के बाद हड़कपं मच गया है।

Advertisement

ये है पूरा मामला

यह वायरल वीडियो बीड जिला का है। इस वीडियो में महिला डीएसपी भाग्यश्री नवटाके काफी आपत्तिजनक बात करते हुए दिखाई दे रही है। इस वीडियो में वो बल रही है कि मैं दलितों का हाथ पैर बांधकर उनके ऊपर एट्रोसिटी एक्ट का गुस्सा निकालती हूँ।

भाग्यश्री नवटाके मजलगांव तालुक की डीएसपी है। वीडियो में यह बात डीएसपी अनुसूचित जाति और जनजाति अधिनियम के तहत दर्ज मामले केआरोपी से कह रही है। इस वीडियो में महिला पुलिस अधिकारी यह भी कहती सुनी जा रही हैं कि उन्होनें ऐसे 21 दलितों पर फर्जी मामलें दर्ज किये हैं। जो उनके थाने में अनुसूचित जाति और जनजाति अधिनियम के तहत मामला दर्ज कराने के लिए आये थे।

महिला वीडियो के शुरुआत में कहती हैं कि उन्होनें मुस्लिमों के खिलाफ इंडियन पैनल कोड की धारा 307 या हत्या के प्रयास के तहत के मामले भी दर्ज करवाए ताकि मुस्लिमों को आसानी से जमानत न मिल सके।


डीएसपी का सनसनीखेज बयान

महिला डीएसपी भाग्यश्री नटवाके वीडियो में यह कहती हुई दिखाई दे रही हैं कि उन्होंने इसी तरह के एक केस को डील किया था, जब वे पुणे शहर के नजदीकी पिंपरी में तैनात थी। उन्होनें कहा कि तीन दिनों तक आरोपी मराठी को गिरफ्तार नहीं किया और इसके बदले में बताया कि कैसे वे दलित के खिलाफ वे झूठा केस दर्ज करे।

भाग्यश्री नटवाके ने आरोपी को सलाह दी थी की वो दलित द्वारा बिना लाइसेंस के हथियार रखने के कारण आईपीसी की धारा 122 के तहत उस पर केस करे। डीएसपी की यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो के वायरल होने के बाद विभाग में भूचाल मच गया है। फ़िलहाल इस मामले में अभी तक कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं हुई है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved