fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अर्थजगत

मोदी सरकार के सुपर टैक्स का दिखा बुरा असर, निवेशकों ने इतने करोड़ बाजार से निकाले

Modi-government's-super-tax-showing-negative-impact,-investors-pulled-out-of-so-many-million-markets
(image credits: Business Standard)

केंद्र सरकार के द्वारा पेश किये गए बजट के जरिये लोगो को यह भरोसा दिलाया गया था की उन्हें महंगाई और टेक्स से काफी ज्यादा राहत मिलेगी। साथ ही यह भी कहा गया था की विदेशी निवेशकों पर सुपर रिच टैक्स लगाने से देश को बड़ा फायदा मिलेगा। परन्तु ऐसा होता नहीं दिख रहा। कई विशेषज्ञों का कहना था की सुपर रिच टैक्स से कई बड़े कारोबारी विदेशो की तरफ रुख कर सकते है, और शायद ऐसा हो भी रहा हैं।

Advertisement

निवेशकों ने सुपर रिच टैक्स के चलते भारत को बड़ा झटका दिया है। विदेशी निवेशकों ने इस महीने भारतीय इक्विटीज से करीब 7,712 करोड़ रुपए निकाल लिए हैं। आर्थिक जानकारों की माने तो इसकी वजह हालिया केन्द्रीय बजट में लागू किया गया ‘सुपर रिच टैक्स’ हो सकता है। बता दें कि वित्तीय वर्ष 2019-20 के बजट में सरकार ने 5 करोड़ से अधिक की सालाना आय वाले लोगों पर सरचार्ज की दर बढ़कर 42% से ज्यादा कर दी है।

सरकार को उम्मीद है कि इस सरचार्ज से सरकार को 12 हजार करोड़ रुपए का अतिरिक्त राजस्व मिल सकता है। हालांकि इस सुपर रिच टैक्स को लेकर आशंका जतायी गई थी कि इससे निवेशक भारत की बजाय किसी अन्य देश का रुख कर सकते हैं।

लगता है की सभी ताजा रिपोर्ट उन्हीं आशंकाओं की ओर इशारा कर रही हैं। बिजनेस स्टैंडर्ड की एक रिपोर्ट के अनुसार, फॉरेन इन्वेस्टर्स यानि विदेशी निवेशक ने 1 जुलाई से 19 जुलाई के बीच इक्विटीज से करीब 7,712 करोड़ रुपए निकाल लिए हैं। हालांकि इस दौरान निवेशकों ने इक्विटीज के ऋण विभाग में 9,371 करोड़ रुपए लगाए हैं, जो कि कैपिटल मार्केट में निवेश के हिसाब से करीब 1,659 करोड़ रुपए बैठते हैं।

खबर के अनुसार, निवेशकों द्वारा इतनी बड़ी संख्या में राशि बाजार से निकालने पर मॉर्निंग स्टार के वरिष्ठ विशलेषक मैनेजर हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा है कि विदेशी निवेशक सरकार द्वारा सुपर रिच टैक्स लगाए जाने के बाद से ही इक्विटीज से अपना पैसा निकाल रहे हैं। हालांकि सरकार द्वारा लगाए गए सुपर रिच टैक्स के अलावा कई अन्य कारण भी हैं, जिनके चलते विदेशी निवेशक अपना पैसा निकाल रहे हैं।


हिमांशु श्रीवास्तव के अनुसार, धीमी विकास दर, कमजोर मानसून और एशियाई विकास बैंक द्वारा भारत की विकास दर के कम रहने के अनुमान के चलते भी भारतीय बाजार में विदेशी निवेशकों का रुझान कुछ कम नजर आ रहा है। हिमांशु मौजूदा समय को विदेशी निवेशकों के लिए इक्विटीज में निवेश के लिए सही नहीं मानते हैं। इसके अलावा अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर अमेरिका और ईरान के बीच जारी तनाव को भी इक्विटीज में विदेशी निवेशकों के पैसा निकालने को भी एक बड़ा कारण माना जा रहा है।

बजट 2019 से किसी को भी यह उम्मीद नहीं थी की निवेशकों पर इसका बुरा असर पड़ेगा। हालांकि यह साफ़ तौर पर नहीं कहा जा सकता की निवेशकों ने पैसे सुपर टैक्स की वजह से निकाले है। परन्तु आंकड़ों के मुताबिक टैक्स में इजाफा होने के चलते निवेशक यह कदम उठा सकते है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved