fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

मोदी बजट से देश की जनता को पड़ी मार, फिर बढ़ेगी महंगाई

people-of-the-country-will-be-affected-by-budget,-inflation-may-increase

मोदी सरकार की नेतृत्व वाली पार्टी एनडीए सरकार की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने केंद्र सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट 5 जुलाई शुक्रवार को पेश किया। देश के सभी लोगो की मोदी से यही उम्मीद थी की इस बजट में उनके लिए कुछ तो अच्छा होगा परन्तु ऐसा ना हो सका।

Advertisement

विशेषज्ञों का मानना था की इस बजट में कई ऐसे चीज़े होंगी जिसकी वजह से लोगो पर महंगाई की मार कम पड़ेगी। पर ऐसा लगता है की इस बजट से भी लोगो को राहत नहीं मिलेगी। दरअसल पेश किये गए बजट से कई ऐसी चीज़े है जो रोज काम आती है और उनके दाम बढ़ने के आसार ज्यादा है।

5 जुलाई को पेश किए गए देश के बजट में पेट्रोल-डीजल पर सेस लगने के बाद लोगों पर महंगाई की मार पड़ना शुरू हो गई है। देश में आज यानी शनिवार से पेट्रोल और डीजल के दामों में 2 रुपये से अधिक की बढ़ोतरी हो गई है। शुक्रवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट भाषण के दौरान पेट्रोल और डीजल पर 2 रुपये प्रति लीटर की दर से एक्साइज ड्यूटी और रोड इन्फ्रास्ट्रक्चर सेस बढ़ाने का ऐलान किया था। इस ऐलान के बाद से दिल्ली में पेट्रोल 2.45 रुपये और डीजल 2.36 रुपये प्रति लीटर बढ़ गया है। दिल्ली में अब पेट्रोल 72.96 रुपये और डीजल 66.69 रुपये प्रति लीटर हो गया है।

बजट पेश करने के दौरान किए गए इस ऐलान पर सरकार ने दावा किया था कि इस बढ़ोतरी से सरकार खजाने को 28,000 करोड़ की आय होगी। इस समय देश के चार प्रमुख शहरों में बजट के बाद पेट्रोल-डीजल की कीमतों में इसका असर देखने को मिल रहा है।दिल्ली में 5 जुलाई को पेट्रोल की कीमत 70 रुपये 91 पैसे थी। आज पेट्रोल की कीमतें बढ़कर 72 रुपये 96 पैसे प्रतिलीटर हो गई है। डीजल की कीमतें 66 रुपये 69 पैसे हो गई है।

मुंबई में भी पेट्रोल की कीमतें बढ़कर 78 रुपये 57 पैसे प्रति लीटर हो गई है। जबकि 5 जुलाई को पेट्रोल की कीमत 76 रुपये 15 पैसे थी। मुंबई में अब डीजल 69 रुपये 90 पैसे प्रति लीटर बिक रहा है। तो वही दूसरी और कोलकाता में पेट्रोल की कीमतें 75 रुपये 15 पैसे प्रति लीटर हो गई है। डीजल के दाम की बात करें तो अब एक लीटर डीजल की कीमत 68 रुपये 59 पैसे हो गई है, इससे पहले डीजल की कीमत 66 रुपये 23 पैसे थी।तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में भी लोगों को महंगाई की मार पड़ी है। यहां पर एक लीटर पेट्रोल की कीमत बढ़कर 75 रुपये 76 पैसे हो गई है। चेन्नई में एक लीटर डीजल अब 70 रुपये 48 पैसे में मिल रहा है।


पिछले साल लगातार बढ़ते पेट्रोल-डीजल के दामों की वजह से और कई राज्‍यों में विधानसभा चुनाव से पहले तत्‍कालीन वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने ईंधन पर एक्‍साइज ड्यूटी में 1.50 रुपये तक की कटौती का ऐलान किया था।

इस बजट में पेट्रोल और डीजल सिगरेट, हुक्का और चबाने वाला तंबाकू सोना और चांदी पूरी तरह आयातित कार स्प्लिट एयर-कंडिशनर लाउडस्पीकर डिजिटल विडियो रिकॉर्डर आयातित किताबें और भी कई चीज़े है जो महँगी हुई है।

शुक्रवार को वित्‍त मंत्री ने अपने बजट भाषण में कहा था कि अतिरिक्‍त संसाधन जुटाने के लिए इसकी आवश्‍यकता है। उन्‍होंने कहा, ‘कच्‍चे तेल की कीमत नीचे बनी हुई है। इस स्थिति से मुझे पेट्रोल और डीजल पर एक्‍साइज ड्यूटी और सेस की समीक्षा का अवसर मिला। मैं पेट्रोल और डीजल पर एक-एक रुपये विशेष अतिरिक्‍त उत्‍पाद शुल्‍क और सड़क एवं आधारभूत वित्‍त मंत्री ने अपने बजट भाषण में कहा कि अतिरिक्‍त संसाधन जुटाने के लिए इसकी आवश्‍यकता है। उन्‍होंने कहा, ‘कच्‍चे तेल की कीमत नीचे बनी हुई है। इस स्थिति से मुझे पेट्रोल और डीजल पर एक्‍साइज ड्यूटी और सेस की समीक्षा का अवसर मिला। मैं पेट्रोल और डीजल पर एक-एक रुपये विशेष अतिरिक्‍त उत्‍पाद शुल्‍क और सड़क एवं आधारभूत संरचना उपकर लगाने का प्रस्‍ताव रखती हूं।’

अक्सर देखा गया है की पेट्रोल के दाम बढ़ने के बाद ही सभी वस्तुओं की दामों में इजाफा होने लगता है। इस बार फिर से लोगो को ऐसी दिक्कतों का सामना करना पद सकता है। हमेशा से महंगाई बड़ा मुद्दा रही जिसे बीजेपी अपने कार्यकाल में कभी ठीक नहीं कर पाई। लोगो के लिए अलग अलग तरह के स्किम तो लाये जाते है परन्तु वही बाद में गले की फांस बन कर रह जाते है। देखना यह है की इस बजट का लोगो पर कितना अच्छा और बुरा प्रभाव पड़ता है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved