fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

पत्रकार प्रशांत कनौजिया फिर संकट में, आर्मी चीफ की तुलना जनरल डायर से की

report-scribe-demeans-army-chief-on-twitter-complaint-filed

पिछले दिनों प्रशांत कनौजिया उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ विवादित पोस्ट शेयर करने के मामले में काफी चर्चा में रहे थे। इतना ही नहीं इसके लिए उन्हें जेल की हवा भी खानी पड़ी थी।  वही एक बार फिर दलित और युवा पत्रकार प्रशांत कनौजिया विवादो में घिर गए है। प्रशांत एक बार फिर ऐसा पोस्ट किया है जिससे वह दोबारा सुर्खियों में हैं और लोगों की आलोचना का शिकार हो रहे हैं। प्रशांत ने हाल ही में आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत को लेकर एक विवादित ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने आर्मी चीफ की तुलना ब्रिटिश जनरल रेजीनॉल्ड डायर से की है। जनरल डायर वही शख्स हैं जिसने 1919 में अमृतसर के जलियांवाला बाग काण्ड करवाया था। 

Advertisement

प्रशांत ने शनिवार 10 अगस्त को आर्मी चीफ के खिलाफ ये विवादित ट्वीट किया था, जिसके बाद उसके खिलाफ यूजर्स की कड़ी प्रतिक्रियाएं आई थीं। आम आदमी पार्टी के बागी नेता कपिल मिश्रा ने प्रशांत के इस ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिखा “जब योगी जी ने इस गद्दार को गिरफ़्तार किया तो देश के बड़े बड़े पत्रकार इसको बचाने आ गए। आज ये नमकहराम, मातृद्रोही, गद्दार देश के सेना अध्य्क्ष की तुलना जनरल डायर से कर रहा है। इस गद्दार की जगह आगरा की उसी जेल में हैं जहां देशद्रोहियों का गारंटी से ईलाज जारी हैं।”

वहीं मशहूर कवि कुमार विश्वास ने उनके ट्वीट को कोट करते हुए लिखा ” देश की सेना के प्रमुख की तुलना जनरल डायर से करना अभिव्यक्ति की आज़ादी है? गृह मंत्री, भारतीय सेना और यूपी पुलिस से अनुरोध है कि अपराधी को अविलंब गिरफ़्तार करें और देश की संवैधानिक अखंडता को तोड़ने के लिए उकसाने वाले ऐसे अपराधियों के समर्थन में उतरने वालों पर भी कार्यवाही करे।”

बता दें इस ट्वीट के वायरल होने के बाद प्रशांत के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट के एक एडवोकेट ने तिलक मार्ग पुलिस स्टेशन में शिकायत दी है। वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने प्रशांत के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज करने की मांग की है। हालांकि आलोचना होने पर प्रशांत ने अपना विवादित ट्वीट डिलीट कर दिया। प्रशांत ने ट्वीट को डिलीट करते हुए लिखा “पिछली पोस्ट से कुछ लोगों की भावनाएं आहत हुई, इसके लिए खेद है। मानवाधिकार और राष्ट्रवाद की लड़ाई में मानवतावादियों का झुकना अफसोस जनक है, आज का यही सत्य है। 

देखने वाली बात यह है की क्या  प्रशांत कनौजिया फिर इस मामले में जेल जा सकते है। हालाँकि उन्होंने ट्वीट डिलीट कर दिया है पर उनके ऊपर मामला दर्ज़ किया जा चूका है और कई बड़े नेताओ के द्वारा भी उनपर करवाई करने की मांग की जा रही हैं। 


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved