fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने मोदी को गंगा माँ का पुत्र नहीं कुपुत्र बताया, मोदी के आचरण से यह सिद्ध होता है

Swami-Avimukteshwaranand-told-Modi-not-to-be-a-son-of-Ganga-maa,-it-is-proved-by-his-conduct
(Image Credits: The week)

काशी के स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को गंगा माँ का कुपुत्र बताया है। गंगा का मुद्दा उठाते हुए उन्होनें मोदी को कहा कि अपने आप को गंगा जी का पुत्र कहते हैं लेकिन वो गंगा मां के पुत्र नहीं कुपुत्र हैं।

Advertisement

ये है पूरा मामला

दरअसल 3 दिनों तक चलने वाली काशी धर्म संसद में चारों पीठों के शंकराचार्य के प्रतिनिधि सहित देश विदेश के साधु संत शामिल हुए। इस संसद में कई मुद्दों पर बातचीत की गई जिसमें साधु संत प्रधानमंत्री मोदी से नाखुश नजर आए।

तभी स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा, ‘माता कभी कुमाता नहीं होती, लेकिन पुत्र कभी कभी कुपुत्र हो जाता है। तो पुत्र तो हैं वो (पीएम मोदी) क्योंकि वो खुद को कहते हैं कि मैं गंगा मां का पुत्र हूं तो हम इसे कैसे खारिज कर दें कि वो पुत्र नहीं हैं। लेकिन उनके आचरण से ये सिद्ध हो जाता है कि वो गंगा माता के सुपुत्र नहीं बल्कि कुपुत्र हैं। क्योंकि उन्होंने गंगा मां के नाम पर सत्ता हासिल की और गंगा माता की कोई सुध नहीं ली। यहां तक कि काशी में आकर कभी गंगा में उन्होंने कभी स्नान भी नहीं किया। इसके साथ ही जब वो फ्रांस के राष्ट्रपति के साथ काशी आए थे तो वो जूता पहने हुए सीधे रैंप पर से नाव में चढ़ गए थे और यात्रा करके सीधा उतर गए थे। उन्होंने गंगा मां को प्रणाम तक नहीं किया।’

राम मंदिर पर मोदी सरकार को घेरा

स्वामी ने सिर्फ गंगा के मुद्दे पर ही नहीं बल्कि राम मंदिर के मुद्दे पर भी मोदी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि राम मंदिर को वह सिर्फ राजनिति कर रहे हैं। उनका राम मंदिर बनाने का कोई इरादा नहीं दिख रहा है।

इसके साथ साथ स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने सुप्रीम कोर्ट में चल रहे राम मंदिर के मुद्दे पर कहा कि राजनीतिक दलों के साथ साथ न्यायलय को भी इसमें हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। अयोध्या में राम मंदिर बनाना मुदा नहीं ही बल्कि जन्मभूमि मुद्दा है और राम जन्मभूमि हिंन्दुओं की है।

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने सरकार पर खड़े किये सवाल

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा कि सरकार के पास पहले से ही 67 एकड़ जमीन मौजूद है तो फिर किस बात के लिए मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाने का इंतजार है। अध्यादेश लाने की बात तो तब सही मानी जाती जब 67 एकड़ जमीन किसी और के पास होती।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved