fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

भारत के वित्त मंत्री और गृहमंत्री ने भारत की मंदी पर जो कहा वो बेहद चौकाने वाला है

The-Finance-Minister-and-the-Home-Minister-of-India-said-on-the-India's-recession-is-very-shocking

भारत में मंदी का दौर चल रहा है। ऑटोमोबाइल, कपड़ा उद्योग, चाय उद्योग समेत लगभग हर सेक्टर में बेरोजगारी की समस्या बढ़ती जा रही है। अधिकतर उद्योगों में भारी मंदी के बाद देश में आर्थिक संकट चरम पर जाता दिख रहा है, जिसकी मार सीधे-सीधे आम आदमी पर पड़ रही है। भारत में आर्थिक मंदी का अहसास अब लोगों को तेजी से हो रहा है। लेकिन लोग इसका अंदाजा नहीं लगा पा रहे हैं कि इसके पीछे कारण क्या हैं? आखिर ऐसी स्थिति उत्पन्न क्यों हुई और इसका असर किन-किन सेक्टरों पर होगा। और अब तो सरकार को आर्थिक मंदी की वजह से तमाम सेक्टर्स में आने वाले दिक्कतों से कोई खासा फर्क नहीं पड़ रहा है। 

Advertisement

भारत की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने तो मंदी को मानने से ही इनकार कर दिया हाल ही में आये उनके बयान में उन्होंने कहा की  भारत में आर्थिक मंदी नहीं है बस लोगो के डिमांड में कमी आई है। चीन, अमेरिका और यूरोपीय देशों की तुलना में भारत की अर्थव्यवस्था बेहतर कर रही है। भारत की अर्थव्यवस्था वैश्विक औसत या अन्य प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं की तुलना में अधिक तेजी से बढ़ रही है। यहाँ तक की उन्होंने कहा भारत की अर्थव्यवस्था अमेरिका और चीन से भी अभी बहुत अच्छी है। अगर सच में ही भारत की अर्थव्यवस्था इतनी मजबूत है तो क्यों भारत के विभिन्न सेक्टरों  में लाखो लोगो की नौकरी दाव पर लगी है। लाख़ों लोग बेरोजगार हो चुके हैं। 

अब ऐसे में भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का बयान आया है। शाह ने कहा कि सरकार ने विकास को प्राथमिकता देते हुए आर्थिक मोर्चे पर अच्छा काम किया है। बीजेपी अध्यक्ष ने शुक्रवार को ट्वीट करते हुए कहा कि भारत की लचीली अर्थव्यवस्था, वैश्विक मंदी के बावजूद भी  अच्छा प्रदर्शन कर रही है।  वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की आज की घोषणाएं बताती हैं कि मोदी 2.0 भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। अमित शाह से कहा की आर्थिक मंदी के बाद भी भारतीय जनता पार्टी अच्छा काम कर रही है।

इस पुरे मामले पर निति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा कि किसी ने भी पिछले 70 साल में ऐसी स्थिति का सामना नहीं किया जब पूरी वित्तीय प्रणाली में जोखिम है। कुमार ने कहा, ‘‘सरकार को ऐसे कदम उठाने की जरूरत है जिससे निजी क्षेत्र की कंपनियों की आशंकाओं को दूर किया जा सके और वे निवेश के लिये प्रोत्साहित हों।’’ निति आयोग के उपाध्यक्ष को खुद सामने आकर भारत की मौजूदा स्थिति को लोगो के समक्ष रखना पड़ा क्यूंकि मौजूदा सरकार को इससे कोई फर्क नहीं पड़ रहे उनके हिसाब से देश के हालत अमरीका और चीन से भी बेहतर है और इस मंदी के दौर में भी भारतीय जनता पार्टी के नेताओ को अपने पार्टी और मोदी की प्रशंसा करने की पड़ी है की कैसे इस समय भी बीजेपी कितना अच्छा काम कर रही है। 


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved