fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

पिछले 5 वर्षों में FDI पहुंचा सबसे निचले स्‍तर पर, रक्षा क्षेत्र में सिर्फ 1.5 करोड़ रुपए का हुआ निवेश

The-last-5-years-of-FDI-reached-at-the-lowest-level,-only-Rs-1.5-crore-invested-in-defense-sector
(Image Credits: Moneycontrol)

भारत की अर्थव्यवस्था में वृद्धि का गुणगान करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पोल खुलती नजर आ रही है। हम ऐसा इसलिए कह रहें है क्योंकि ताजे आकड़े के अनुसार देश में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश पिछले पांच वर्षों में सबसे निचले स्तर पर पहुंच चूका है। इसके साथ रक्षा के क्षेत्र में बड़ी बड़ी हाकने वाले मोदी सरकार की एक सच्चाई और सामने आ गई है।

Advertisement

दरअसल संसद में सोमवार को बताया गया की अप्रैल-सितंबर 2018 के दौरान रक्षा क्षेत्र में मात्र 1.5 करोड़ रुपया ही FDI के माध्यम से आया है। वर्ष 2014-15 में करीब 57 लाख, वर्ष 2015-16 में करीब 71 लाख और वर्ष 2017-18 में करीब 7 लाख रुपया का निवेश हुआ। वहीं अगर वर्ष 2016-17 के आकड़ो को देखा जाये तो इस दौरान भी रक्षा का क्षेत्र FDI को अपनी तरफ आकर्षित करने में नाकाम रहा था।

PTI के अनुसार, वाणिज्य और उद्योग राज्य मंत्री CR चौधरी के लोकसभा में दिए गए के आंकड़ों के अनुसार, भारत अपने मिलिट्री हार्डवेयर को विभिन्न कंपनियों के माध्यम से आयात करता है। उनके आकड़े के अनुसार कुल मिलकार देश में अप्रैल-सितंबर 2018 में एफडीआई 11 प्रतिशत की गिरावट के साथ करीब 1,61,262 करोड़ रुपया रहा। वहीं, 2017-2018 में एफडीआई में वृद्धि दर पांच वर्ष में सबसे कम 3 प्रतिशत के साथ 3,19,152 करोड़ रुपये रही।

इंवेस्ट इंडिया एक नॉन प्रॉफिट कंपनी जो एक National Investment Promotion and Facilitation Agency (Invest India) के तौर पर काम करती है। Invest India के 51 प्रतिशत शेयर उद्योगिक संगठनों (Ficci, CII and Assocham) और 49 प्रतिशत केंद्र तथा राज्य सरकार के पास है।

लोकसभा में जब इसको लेकर चर्चा की गई तो विपक्षी पार्टियों ने मोदी सरकार को घेरने का प्रयास भी किया। वही सरकार ने विपक्षी पार्टियों पर पलटवार करते हुए कहा कि संप्रग के समय तबाह हुई अर्थव्यवस्था को मोदी सरकार वापस पटरी पर लेकर लाई है। और साथ मोदी सरकार ने नोटबंदी को देश के लिए अच्छा बताया और कहा की इससे tax की चोरी पर रोक लगाई गई और इससे देश में करदाताओं की संख्या में बढ़ोतरी भी हुई है।


चर्चा में भाग लेते हुए केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने कांग्रेस और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर आरोप लगाया और कहा की पिछली सरकार में ‘अर्थशास्त्रियों के समूह’ ने हमारी अर्थव्यवस्था को तबाह कर दिया था। और इसके बाद हमारे प्रधानमंत्री मोदी ने भारत की अर्थव्यस्था को दुनिया में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाली अर्थव्यवस्था बनाया है।

मोदी सरकार भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर कितने भी बड़े दावे क्यों न कर ले। परन्तु मोदी सरकार की असफलता तो जग जाहिर है। सभी आकड़े सरकार के सामने हैं और अब तो सरकार को भी पता चल गया है की ज्यादातर आकड़े उनके खिलाफ ही हैं।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved