fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
देश

हम दलित है इसलिए काट दी पुरे गांव की बिजली

Electricity

मामला हस्तिनापुर विधानसभा क्षेत्र के गांव एदलपुर बगीची का है जहा बिजली काट दिए जाने से ग्रामीणों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उनका कहना है कि चंद उपभोक्ताओं द्वारा बिल जमा नहीं करने पर पूरे गांव की बिजली काट देने का कोई औचित्य नहीं है। उन्होंने बिल समय से जमा किया इसके बावजूद वे अंधेरे में रहने को मजबूर हैं। उन्होंने समय पर अपने बिल जमा किये कुछ लोगो के कारन पुरे गांव की बिजली काट दी गई है।

Advertisement

बिजली कुन्हैड़ा बिजलीघर से एदलपुर गांव में सप्लाई की जा रही हैं। जहां पर ;लगभग 45 से अधिक कनेक्शन है, जिनमे से 12 उपभोक्ता बाढ़ के कारण नष्ट हुई फसल के चलते बिल जमा नहीं कर पाए। नष्ट हुई फसल के कारन पैसे की तंगी हो गई और बिजली के बिल भरने तक के लिए पैसे नहीं बचे। वही विद्युत निगम कर्मचारियों ने शुक्रवार सुबह पूरे गांव की बिजली काट दी।

यह रविवार देर शाम तक भी चालू नहीं की गई। ग्रामीण सुभाष चंद, चरण सिंह, फूल सिंह, राजपाल, वीरपाल, ब्रजपाल, होशियार सिंह, महेंद्र, सतपाल, हरपाल, रामशरण, धर्मवीर, रामरतन, मेनपाल, प्रेम सिंह आदि का कहना है कि उन्होंने समय पर बिल कर रखा है। इसके बावजूद उनकी बिजली काट दी गई। उन्होंने बताया की गांव में दलित समाज की बहुलता अधिक है जिसके कारण ही विद्युत विभग ने एक दिन का भी समय उनको नहीं दिया और तुरंत बिजली काट दी।

गांव दलित बहुल होने के कारण उनका शोषण किया जा रहा है। विद्युत निगम के अधिकारी भी सुनवाई नहीं कर रहे हैं। हंगामा करने वालों ने लोकसभा चुनाव में भाजपा सरकार का बहिष्कार करने की चेतावनी दी। विधायक के आदेश को भी मानने से इंकार कर दिया।

एदलपुर बगीची गांव की विद्युत आपूर्ति ठप किए जाने का मामला हस्तिनापुर विधायक दिनेश खटीक के सामने पहुंचा तो उन्होंने तत्काल अधिकारियों से वार्ता कर विद्युत आपूर्ति सुचारु करने के लिए कहा। वहीं, उनके आदेश को ठेंगा दिखाते हुए रविवार देर शाम भी बिजली नहीं जोड़ी गई।


उच्चाधिकारियों के आदेश पर गांव की आपूर्ति बंद की गई है। अधिकारियों के आदेश के बाद ही आपूर्ति सुचारू की जाएगी।-प्रेमपाल सिंह, अवर अभियंता, विद्युत उपखंड कुन्हैड़ा

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved