fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

मॉब लिंचिंग के खिलाफ मालेगांव में 1 लाख मुस्लिमों का शान्तिपूर्ण प्रदर्शन

1-lakh-muslims-peacefully-demonstrating-in-malegaon-against-mob-lynching-in-country
(image credits: the indian express)

हाल ही में हुए झारखण्ड की घटना पर देश के कई हिस्सों से लोगो द्वारा अपना विरोध जताया जा रहा है। इसी सन्दर्भ में सोमवार को मुस्लिम समाज के लोगो ने महारष्ट्र के मालेगांव में प्रसिद्ध शहीद स्थल पर इकट्ठा होकर मॉब लिंचिंग के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। और साथ ही सरकार से इसके लिए कानून बनाने की अपील भी की। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि झारखंड में तबरेज अंसारी के साथ हुई घटना एक फाइनल ट्रिगर है।

Advertisement

जमीयत उलेमा के मौलवियों द्वारा इस विरोध प्रदर्शन की अगुवाई की गई। प्रदर्शनकारियों ने शांतिपूर्ण तरीके से मार्च निकाला और सरकार से इस मसले पर एक हफ्ते में कोई कदम उठाने की मांग की है। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि ‘हम बदला नहीं चाहते और ना ही हिंसा में विश्वास करते हैं। हमें कानून के राज में विश्वास है।’

वहीं उत्तर प्रदेश के आगरा में भी मोब लिंचिंग के खिलाफ मुस्लिम समुदाय के लोगो ने सड़क पर उतरकर अपना विरोध जताया। हालाँकि ये प्रदर्शन एक समय में थोड़ा तेज हो गया जब दो समुदाय के लोग आमने सामने आ गए। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचकर पुलिस ने लाठीचार्ज कर भीड़ को इधर उधर कर दिया। जिससे हालत काबू में आ गये। इस स्थिति को देखते हुए शहर में दिनभर बाजार बंद रहे। इसके साथ ही इलाके में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

आगरा के साथ मेरठ में भी लोगो ने विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया। इस दौरान वहां भी आगरा की तरह लोग सामने आये। बताया जा रहा है की, इस प्रदर्शन को प्रशासन की अनुमति के खिलाफ जाकर आयोजित किया गया था, जिससे पुलिस प्रशासन ने इसे रोकने की कोशिश की। बाद में बातचीत के बाद एक समुदाय के लोगों ने मिश्रित आबादी वाले इलाके में दुकाने बंद कराने की कोशिश की, जिसे माहौल ख़राब हो गया और कुछ समय में पथराव होने लगे। फिलहाल मेरठ में भी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

मौजूदा सरकार को देश में होने वाली इस प्रकार की घटनाओ के सन्दर्भ में आरोपी के खिलाफ सख्त करवाई करनी चाहिए। इसके साथ साथ जैसे लोगो को भी मानना है की इन मामलो से निपटने के लिए अलग से एक कानून का प्रावधान होना जरुरी है। लोगो द्वारा इन मामलो में शांतिपूर्ण तरीके से विरोध करना उचित है। इसके साथ साथ इन प्रदर्शनों के दौरान पुलिस द्वारा लाठी चार्ज करना गलत है। राज्य प्रशासन को इन हालातो को शांतिपूर्ण तरीके से संभालना चाहिए।


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved