fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

25 लोगो को बंधक बना लगवाए ‘गौ माता की जय’.के नारे, जानिए पूरा मामला

25-people-tied-up-and-forced-to-raise-'Gau-Mata-Ki-Jai'.-Slogans,-know-the-whole-case
(image credits: Hindustan Times)

जय श्री राम वाले नारे के बाद एक नया नारा चलन में आने वाला है। यह वह नारा होने वाले है जो लगता है जय श्री राम के बाद भारत में सबसे ज्यादा बोला जाने लगेगा और वह नारा है ‘गौ माता की जय’. हाल ही में एक घटना मध्यप्रदेश के खंडवा में हुई खंडवा जिला मुख्यालय से करीब 60 किलोमीटर दूर सांवलीखेड़ा गांव में कथित तौर पर ट्रकों में गोवंश की तस्करी कर रहे 25 लोगों को करीब 100 गोरक्षकों ने रविवार 7 जुलाई को पकड़ लिया।

Advertisement

उन्होंने सभी आरोपियों को एक रस्सी से बांधकर करीब दो किलोमीटर तक उन्हें खदेड़ा और खालवा पुलिस थाने ले गए। बाद में इन सभी कथित गोतस्करों को पुलिस के हवाले कर दिया गया। बताया जा रहा है कि आरोपियों से गोमाता की जय के नारे भी लगवाए गए। इस मामले में पुलिस ने गोवंश की कथित तस्करी करने वाले और गोरक्षकों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

इस पूरे मामले का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो और फोटो में दिखाई देता है कि आरोपियों के एक-एक हाथ को एक बड़ी रस्सी से बांधा गया और कान पकड़वाकर उन्हें मुर्गा भी बनाया गया। इनके इर्द-गिर्द अपने आप को गौरक्षक कहने वालो ने उन्हें सड़क पर खदेड़ा गोरक्षकों ने आरोपियों से उठक-बैठक लगवाकर ‘गोमाता की जय’ भी बुलवाया।

खंडवा जिले के पुलिस अधीक्षक शिवदयाल सिंह ने पीटीआई को बताया कि बिना परमीशन के गायों को वाहनों में भरकर ले जा रहे लोगों के खिलाफ संबंधित धाराओं में केस दर्ज किया गया है. सिंह ने कहा, ‘हमने उन ग्रामीणों के खिलाफ भी केस दर्ज किया है, जिन्होंने अनाधिकृत तरीके से गायों को लेकर जा रहे लोगों के साथ बदसलूकी की.’ लोगो ने सीधे ही आरोपियों को पुलिस को ना सौपकर उनके साथ बदसूलकी कर नारे लगवाए और उनके बंधक बनाया। यह घटना मध्य प्रदेश विधानसभा सत्र के शुरू होने से एक दिन पहले की है.

खालवा पुलिस थाना प्रभारी हरिशंकर रावत ने कहा, ‘‘ इस मामले में पकडे गए परिवहन और सभी 25 आरोपियों के खिलाफ पशु क्रूरता निवारण अधिनियम एवं गोवंश प्रतिषेध अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है।


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved