fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

बीजेपी राज में बड़ी बेईमानी, 200 Rs कमाने वाले पर 200 करोड़ टैक्स चोरी का आरोप

Big-dishonesty-in-BJP-rule,-200-crore-tax-evasion-allegations-on-200-rupee-earners
(image credits: moneycontrol.com)

मोदी राज में आजकल जीएसटी विभाग के अधिकारियों को छापा मारने की इतने जल्दी रहती है की वह आजकल किसी के यहाँ भी पहुँच जा रहे है। पिछले कुछ दिन पहले ही यह खबर आई थी की अलीगढ़ के एक कचौड़ी बेचने वाले को इनकम टैक्स विभाग ने नोटिस भेजा था।

Advertisement

इनकम टैक्स विभाग के मुताबिक मुकेश कचौड़ी वाला साल में 60 लाख रुपए से एक करोड़ रुपए के बीच कमाई करता है, लेकिन उसने अपनी दुकान को जीएसटी के तहत रजिस्टर नहीं कराया था। ऐसे में जब कमर्शियल टैक्स विभाग को इस कचोरी वाले के बारे में शिकायत मिली, तो उसने कचौड़ी की दुकान पर रेड मार दी।

हालाँकि जब मुकेश कचौड़ी वाले से पूछताछ की गई तोह उनसे बताया की उसकी एक दिन की कमाई मुश्किल से 1500 से 2000 के बीच होती है जिसके मुताबिक उसकी सालाना कमाई 60 लाख क्या उसकी आधी भी नहीं है। जीएसटी कानून के मुताबिक 40 लाख रुपए से ज्यादा के टर्नओवर वाले कारोबारियों को जीएसटी के तहत अपने व्यापार को रजिस्टर कराना जरूरी है। हालाँकि अभी इस मामले की पूरी जाँच चल रही है।

हाल ही में एक नया मामला दोबारा चर्चा में आ गया है जहा गुजरात के भरुच जिले में मुश्किल से 8 हजार रुपये कमाने वाले एक टैंपो ड्राइवर के यहां जीएसटी टीम पहुंच गई। टीम ने उससे घंटों पूछताछ की। इस दौरान टेंपो ड्राइवर के होश उस समय उड़ गए जब उसे मालूम चला कि उसे 15 करोड़ रुपये कि टैक्स चोरी के आरोप में उससे पूछताछ की जा रही है। टेंपो ड्राइवर सुरेंद्र मुश्किल से अपने घर का खर्चा चलाते हैं। उनकी आमदनी 8 हजार रुपये से भी कम है। स्टेट एंड सर्विस गुड्स टैक्स (जीएसटी) की टीम ने जब उनके यहां छापेमारी की तो वे कुछ समझ ही नहीं पा रहा था।

टेंपो ड्राइवर का कहना है कि उनकी रोज की कमाई लगभग 200 रुपये है। 200 रूपए दिन का कमाने वाले पर 200 करोड़ की टेक्स चोरी करने के आरोप में उससे घंटो पूछताछ की जा रही है यह देख आसपास के सभी लोग हैरान थे।


अधिकारियों की टीम सुरेश के घर पहुंची और काफी देर तक सर्च ऑपरेशन चलाने के बाद भी जब उन्हें कुछ नहीं मिला तो अधिकारी वहां से चले गए। जीएसटी अधिकारियों के पास मौजूद डॉक्यूमेंट के मुताबिक, सुरेंद्र किसी गोहिल कंसल्टेंट कंपनी के मालिक हैं। उसकी कंपनी ऑनलाइन रजिस्टर्ड है। इतना ही नहीं उसकी कंपनी ने 200 करोड़ रुपये का टैक्स नहीं भरा है। हालांकि, जीएसटी अधिकारियों की टीम को उसके घर से कुछ नहीं मिला।

सुरेंद्र का कहना है कि हम एक टूटे कमजोर घर में रहते हैं। बारिश होने पर उनके घर की छत से पानी चूने लगता है। ऐसे में उन्हें टपकटी छत के नीचे रहना पड़ता है। हमने आज तक 1 करोड़ रूपए भी नहीं देखे और ऐसे में 200 करोड़ जैसी रकम जो सपने में भी वह नहीं सोच सकते उनपर इतने रुपये की चोरी का आरोप लगा कर जीएसटी विभाग के अधिकारियों ने हमे प्रताड़ित किया हालाँकि उन्हें ऐसे कुछ दूर दूर तक भी नहीं दिखा जिससे लगे की हम करोड़ क्या लाख भी कमा सकते है।

जहा एक तरफ अरबो करोड़ो की टेक्स चोरी करने वाले बड़े बड़े व्यपारियो पर केंद्र सरकार की नज़र नहीं पड़ रही वही दूसरी ओर कभी कचौड़ी वाले कभी टेम्पो वालो पर करवाई करी जा रही है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved