fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

जबरन बुलवा रहे थे ‘जय श्री राम’, बुजुर्ग ने किया कुछ ऐसा, भागने पर मजबूर हुए युवक

few-man-were-Forcibly-calling-'Jai-Shri-Ram',-the-elderly-did-something-like-that,-the-young-man-forced-to-flee
(representational image) (image credits: Scroll.in)

जय श्री राम के नारे का इस्तेमाल आजकल कुछ अलग ढंग से ही किया जा रहा है भारतीय जनता पार्टी के राज में यह नारा दिन प्रतिदिन हिंसक होते जा रहा है और देश भर से नई नई विवादों को बढ़ावा दे रहा है। हाल ही में झारखंड के जामताड़ा में जय श्री राम का नारा लगाने का नया मामला सामने आया है इस बार नारा लगाने का यह मामला बेहद अलग है । जामताड़ा में कुछ युवकों ने फल बेचने वाले एक युवक से जब जय श्री राम का नारा लगाने को कहा तो युवक ने रामायण की एक चौपाई ही सुना दी।

Advertisement

दरअसल यह घटना रविवार की है। जब कार सवार युवकों ने फल विक्रेता से जय श्री राम का नारा लगाने को कहा तो उन्होंने यह चौपाई सुना दी, ‘बैर न कर काहू सन कोई, राम प्रताप विषमता खोई’. रामचरित मानस में इस चौपाई का उल्लेख है जो बैर दूर करने के लिए संदेश देती है। चौपाई सुनते ही युवकों की सिट्टी-पिट्टी गुम हो गई। इसके बाद तब तक वहां भीड़ जुटने लगी थी जिसे देखकर युवक वहां से फरार हो गए।

बुजुर्ग फल विक्रेता का नाम मोहनलाल है। जानकारी के मुताबिक रविवार सुबह यहां मस्जिद रोड पर सड़क के दोनों साइड फल विक्रेताओं ने अपने-अपने ठेले लगा रखे थे। वहां से गाडियां निकल रहीं थी. तभी एक काले रंग की कार वहां पहुंची। मोहनलाल के अनुसार उस कार में चार लोग सवार थे। कार सवार लोगों ने फल विक्रेता से कहा कि वह अपना ठेला सड़क से हटा लें, कार निकलने की जगह नहीं है। फल विक्रेता मोहनलाल ने कहा मालिक और भी गाड़ियां इस रास्ते से आ-जा रही हैं। कहीं जाम नहीं लग रहा। आपकी कार भी निकल जाएगी. ठेला हटाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

इतना सुनकर कार सवार युवकों ने बहस शुरू कर दी और इसके बाद जय श्रीराम बोलने को कहा। फिर क्या था फल विक्रेता मोहनलाल ने न केवल जय श्री राम का नारा लगाया बल्कि रामचरित मानस की चौपाई भी सुना दी। कार में सवार युवको को लगा की यह फल विक्रेता मुस्लिम है इसलिये उन्होंने जय श्री राम का नारा लगाने को कहा। मोहनलाल ने नारा क्या रामचरितमानस की पूरी चौपाई सुना डाली। उन्होंने कहा ‘बैर न कर काहू सन कोई, राम प्रताप विषमता खोई’. बुजुर्ग ने इस चाैपाई की महत्ता भी कार सवार लाेगाें काे समझाई उन्हाेंने बताया कि श्री राम का धर्म कहता है कि किसी से बैर नहीं करो, राम से प्रेम करने वाले विषमता व आंतरिक भेदभाव नहीं फैलाते, बल्कि मिटाते हैं।

अब अपने बात को कथित राम भक्त बताने वालो को यह चौपाई भले कहा समझ आती वह तुरत ही वहा से फरार हो गए। हांलांकि इस पुरे घटना की शिकायत बुजुर्ग फल विक्रेता मोहनलाल ने पुलिस की जिसके बाद पुलिस ने बताया कि कार सवारों ने मोहनलाल को अन्य समुदाय का समझ लिया था और जबरन जय श्रीराम के नारे लगाने को कहा । अब पुलिस उन कार सवारों को खोज रही है।


Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved