fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

पश्चिम बंगाल में बीजेपी के पांच कार्यकर्ता गिरफ्तार, 10 लाख वसूली का आरोप

Five-BJP-workers-arrested-in-West-Bengal,-allegation-of-taking-bribe-of-rupees-10-lakh
(Image credits: WTVA.com)

बीजेपी सरकार द्वारा हाल ही में पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्त्ता पर ‘कटमनी’ वसूली करने का आरोप लगाया गया। दरअसल कटमनी का मतलब वही रकम है जो सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाने के नाम पर लाभार्थियों से तृणमूल कांग्रेस कार्यर्ताओं द्वारा ली जा रही है। तृणमूल कार्यर्ताओं पर वसूली की रकम लेने का आरोप बीजेपी द्वारा लगाया जा रहा है। इसके कारण वेस्ट बंगाल में ममता बनर्जी की सरकार सवालों की घेरे में आ चुकी है। हालाँकि उनकी पार्टी पर लगाए गए आरोपों में कितनी सच्चाई है यह हम नहीं कह सकते।

Advertisement

इसी मामले में इक नया मोड़ आता दिख रहा है, बात यह है की अब तक बीजेपी नेता तृणमूल कांग्रेस पर वसूली करने का आरोप लगाते आये है। परन्तु अब बीजेपी के ही कुछ कार्यकर्त्ता इसके लपेटे में आते दिख रहे है। बता दें की पश्चिम बंगाल से बीजेपी के पांच कार्यकर्ताओं पर 10 लाख रुपए की वसूली का आरोप लगा है।

बीरभूम जिले के इलम बाजार के व्यापारी उत्तम मंडल से ‘कटमनी’ की मांग करने के आरोप में इन कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया है। वहीं राज्य में भाजपा नेतृत्व ने इन आरोपों को मनगंढ़त बताया है। बीजेपी नेता ने कहा कि कार्यकर्ता अजोय नदी से अवैध रूप से रेत को इकट्ठा करने का विरोध कर रहे थे। लेकिन कहा यह जा रहा है की, व्यापारी ने सरकार से रेत खनन की अनुमित ली हुई है।

बीजेपी के जिन पांच कार्यकर्त्ता की गिरफ्तारी हुई है उनमे भाजपा बीरभूम इकाई के अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ के अध्यक्ष शंभूनाथ मंडल, जीबन कुमार घोष, आशीष घोष, रंजीत बैराग्य और निखिल बैराग्य शामिल हैं। उन्हें बुधवार को बोलपुर की एक अदालत में पेश किया गया और 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। इस मामले में राज्य सरकार के तरफ से पेश वकील फिरोज पाल ने कहा, ‘पांच लोगों को धमकी देने और जबरन वसूली का प्रयास करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।’

इसके साथ ही इलम बाजार में एक बीजेपी नेता शिबदास घरुई ने कहा, ‘बीरभूम के जयदेव और इलम बाजार क्षेत्रों में कई रेत खदानें हैं। कुछ लोग अवैध रूप से ज्यादा रेत इकट्ठा करने के लिए टीएमसी नेताओं से अपनी नजदीकियों का फायदा उठा रहे हैं। हमारे लोगों ने इसका विरोध किया।’


वहीं एक सख्स उत्तम मंडल ने दावा किया की भाजपा कार्यकर्ताओं ने उन्हें धमकी दी और रेत ले जा रहे एक वाहन को रोककर 10 लाख रुपये की मांग की। तृणमूल नेता फजलूल रहमान ने कहा, ‘बीरभूम के कई हिस्सों में भाजपा कार्यकर्ता जबरन वसूली में शामिल हैं। बीजेपी की सच्चाई सबके सामने आ गई है।’

पहले बीजेपी द्बारा तृणमूल कार्यकर्ताओं पर वसूली करने के आरोप लगाए गए। लेकिन अब जब उनके कार्यकर्ताओं पर वसूली करने के आरोप लगाए गए। तो भाजपा नेतृत्व को यह सब कुछ मनगढ़ंत लगने लगा। बीजेपी नेताओ को दूसरे पर आरोप लगाने के साथ साथ अपने कार्यकर्ताओं पर भी ध्यान रखना चाहिए।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved