fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

भाजपा शासित क्षेत्र में बिजली ना मिलने पर फूटा लोगो का गुस्सा, लोगो ने उठाया बड़ा कदम

People-got-angry-after-not-getting-electricity-in-BJP-ruled-area,-people-took-big-step
(image credits: northeast now)

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कहना था की हर क्षेत्र और हर घर में बिजली होगी, हर परिवार सुखी रहेगा। परन्तु लोगो के विरोध ने यह दर्शा दिया है की मोदी की यह बाते सिर्फ दिखावा है और कुछ नहीं। बीजेपी शासित क्षेत्र में लोगो के घर बिजली न मिलने पर बड़ा हंगामा खड़ा हो गया। बिजली की समस्या से परेशान लोगो ने बीजेपी के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर किया है।

Advertisement

अगरतला में चल रहे गंभीर बिजली संकट से गुस्साए शहरवासियों ने विरोध प्रदर्शन के दौरान शहर में स्थित दो पॉवर स्टेशन को आग के हवाले कर दिया। बिजली विभाग के अधिकारियों ने कहा कि स्थानीय लोगों ने रामनगर और आइजीएम क्षेत्र में स्थित पावर स्टेशन के भीतर टेबल और कुर्सियों, बिजली उपकरणों को नुकसान पहुंचाया है।

त्रिपुरा एक अतिरिक्त बिजली उत्पादक और निर्यातक राज्य है, लेकिन रूखिया गैस आधारित बिजली उत्पादन संयंत्र का मुख्य ट्रांसफार्मर अचानक बंद होने से राजधानी में बिजली का संकट पैदा हो गया है। रविवार रातभर और सोमवार दोपहर तक अगरतला में बिजली बंद रहने से शहरवासियों का गुस्सा फूट पड़ा।

त्रिपुरा राज्य बिजली कंपनी के बिजली आपूर्ति नियंत्रण कक्षों में टोल फ्री हेल्पलाइन के कॉल का कोई जवाब नही आने से उपभोक्ता और ज्यादा गुस्सा हो गए। एक उपभोक्ता के मुताबिक हमने हेल्पलाइन नंबर से बिजली कंपनी के कार्यालयों में बिजली की आपूर्ति बंद होने की वजह जानने और आपूर्ति बहाली की जानकारी लेने के कई बार फोन किए, लेकिन किसी ने हमारे कॉल को नहीं उठाया।

शहरवासियों ने बताया कि राजधानी में लगातार 12-14 घंटे लंबी बिजली कटौती हमने पहले कभी नहीं देखी। टीएसईसीएल के एक अधिकारी ने बताया कि रूखिया गैस बिजली उत्पादन का ट्रांसफार्मर बंद होने और हाल ही में लगाई 33 केवी प्रसारण लाइन की एक भूमिगत केबल जल जाने की वजह से राजधानी में बिजली आपूर्ति बाधित हो गई।


ऐसे में बीजेपी सरकार की बिजली को लेकर पोल खुलती नजर आई है। बीजेपी से गुस्साए लोग ने प्रदर्शन तो शुरू कर दिया परन्तु यह प्रदर्शन कब ख़त्म होगा कहना मुश्किल है परन्तु बीजेपी सरकार को इन गुस्साए लोगो का सामना करना पड़ेगा।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved