fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

मोदी के शहर गुजरात में मंदी का बुरा असर- हीरा कारोबारियों ने दिया बड़ा बयान

The-impact-of-the-recession-in-Modi's-city-of-Gujarat - diamond-traders-made-a-big-statement

यूँ मंदी का असर पुरे देश और पुरे कारोबार पर पड़ा है परन्तु सबसे ज्यादा असर मोदी के अपने शहर गुजरात में पड़ा है। जहाँ सभी बड़े कारोबारी त्योहारों पर कर्मचारियों को गिफ्ट दिया करते थे वही अब मंदी के चलते कोई भी कारोबारी ऐसा नहीं करेगा। जी हाँ गुजरात में हीरा कारोबार पर मंदी का असर इस प्रकार पड़ा है की वहां के कारोबारियों ने दिवाली पर कर्मचारियों को कुछ न देने का फैसला लिया है।

Advertisement

जो कारोबारी दीवाली के मौके पर अपने कर्मचारियों को गिफ्ट के रूप में कार और फ्लैट देते थेअब उनका कहना है कि इस बार ऐसा कुछ नहीं हो सकेगा। गुजरात के हीरा कारोबार की बड़ी कंपनियों में शामिल हरी कृष्णा एक्पोर्ट्स प्रोफिट की तलाश में है। त्योहार के सीजन के बावजूद कंपनी को मांग में 30 फीसदी कमी का सामना करना पड़ा रहा है। स्थिति यह है कि हीरा कारोबार से जुड़ी छोटी यूनिटों को अपने कर्मचारियों की संख्या में कटौती करनी पड़ी है। इसके अलावा काम के घंटों में भी कमी की गई है।

अहमदाबाद मैनेजमेंट एसोसिएशन आयोजित सेमिनार में हिस्सा लेने आए सूरत के अरबपति हीरा कारोबारी सावजी ढोलकिया के छोटे भाई घनश्याम ने कहा कि हीरा कारोबार में मंदी की स्थिति है। कारोबार की मांग में 25-30 फीसदी की गिरावट है। हीरा पॉलिश के लिए अमेरिका और चीन हमारे देश के लिए बड़ा बाजार है। दोनों देशों के बीच ट्रेड वॉर के कारण अनिश्चितता का माहौल है। इसका असर डिमांड पर देखने को मिल रहा है।

हीरा यूनिटों ने अपना प्रोडक्शन घटा दिया है। घनश्याम के अनुसार सूरत के हीरा कारोबार में पिछले 7-8 महीने से गंभीर मंदी का दौर है। यहां यूनिटें न सिर्फ काम के घंटों में कटौती कर रहीं हैं बल्कि कर्मचारियों को भी काम से निकाल रही हैं। रविवार के अलावा हीरा यूनिटों में शनिवार को भी छुट्टी दी जा रही है। सभी को मालूम है कि सूरत में दुनिया की प्रमुख डायमंड प्रोसेसिंग सेंटर्स हैं। यहां से हीरा प्रोडक्शन का करीब 80 फीसदी हिस्सा निर्यात होता है। यहां करीब 3500 डायमंड प्रोसेसिंग यूनिटें हैं।

हरि कृष्णा एक्सपोर्ट के पास सूरत और मुंबई में 7500 हीरे के काम करने वाले कारीगर हैं। कंपनी का मुंबई में संचालन देखने वाले घनश्याम ने कहा कि इस बार शायद ऐसा नहीं होगा। कंपनी का बिजनेस इस महीने पूरी तरह से कमजोर रहा है। हरि कृष्णा एक्सपोर्ट्स के मालिक सावजी ढोलकिया अपने कर्मचारियों को दिवाली पर कार बांटने व फ्लैट देने को लेकर चर्चा में रह चुके हैं।


जहाँ बीजेपी सिर्फ ऑटो सेक्टर में मंदी का जीकर कर रही थी अब वही हिरा कारोबारी भी बीजेपी सरकार से नाराज दिख रहे है। मोदी के शहर गुजरात में इस तरह के हालत यही दर्शाते है की रोजगार ख़त्म हो रहे है साथ ही देश का दिवाला  भी निकल रहा है। 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved