fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
अन्य

मुस्लिम पक्ष के वकील ने कहा- याचिका जानबूझ कर लगाई गई ? जानिए ऐसा क्यों कहा

The-lawyer-for-the-Muslim-side-said - the-petition-was-deliberately-imposed?-Know-why-said-this
(image credits: deccan chronicle)

रामजन्म भूमि को लेकर रोजाना सुनवाई हो रही है। परन्तु अब इस सुनवाई ने अलग मोड़ पकड़ लिया है। अयोध्या मामले में अब आरोप प्रत्यारोप का दौर भी जारी हो गया है। जन्मस्थान से जुड़े कई ऐसे तथ्य बाहर आ रहे है जिसे सुन कोर्ट भी हैरान है। इस बार मुस्लिम पक्ष ने जन्मस्थान को लेकर कोर्ट में ऐसी बात कही जिसे सुन दूसरे पक्ष भी चुप्पी साध रहे है।

Advertisement

मुस्लिम पक्षकारों ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि ‘जन्मस्थान’ न्यायिक व्यक्ति नहीं हो सकता। अयोध्या विवाद की सुनवाई के 24वें दिन सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील राजीव धवन ने कहा, यह याचिका जानबूझ कर लगाई गई जिससे इस पर न तो लॉ ऑफ लिमिटेशन लागू हो और न जबरन कब्जे का सिद्धांत लागू हो। ऐसे में जमीन से हक नहीं छीना जा सकता।

धवन ने चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच के समक्ष कहा, जन्मस्थान द्वारा दाखिल याचिका का मतलब है कि बाकी पक्षकार मामले से बाहर हो जाएं और रामलला विराजमान को अधिकार मिल जाए।

अमर उजाला पर छपी खबर के अनुसार, अगर राम जन्मभूमि क्षेत्र को देवता बना दिया जाएगा तो पूरा इलाका अपने आप अधिकारिक हो जाएगा। ऐसे में कोई मालिकाना हक का दावा नहीं कर सकता।

इससे पहले सोमवार को सुनवाई शुरू होते ही धवन ने सोशल मीडिया पर एक व्यक्ति द्वारा सीजेआई रंजन गोगोई को पत्र लिखे जाने का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि उस व्यक्ति ने सीजेआई को 117 पत्र लिखने का दावा किया है, जिसमें उसने रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद की सुनवाई को लेकर शीर्ष कोर्ट के न्यायाधिकार पर सवाल उठाए हैं।


वह व्यक्ति इलेक्ट्रानिक मीडिया से जुड़े पत्रकार हैं। इस पर बेंच ने कहा कि उसे अब तक रजिस्ट्री ने ऐसे पत्र की जानकारी नहीं दी है। कोर्ट ने कहा कि आपके द्वारा दाखिल अवमानना याचिका पर हमने 88 वर्ष के व्यक्ति को नोटिस जारी किया। फिर आपने कहा कि कितनी अवमानना याचिका दाखिल करेंगे? आपने ऐसी याचिका दाखिल न करने को कहा था।

रामजन्म भूमि विवाद बढ़ता ही जा रहा है। दोनों पक्ष अलग-अलग दावे कर के कोर्ट को और भी ज्यादा सोचने पर मजबूर कर रहे है। दोनों पक्ष अपनी दलीले पेश कर रहे है जसकी वजह से कोर्ट के लिए फैसला करना और भी मुश्किल हो गया है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved