fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  

यह पोस्टर क्यों वायरल हो रहा है?

विमर्श
1 year ago

हत्यारों का गिरोह हत्यारों के गिरोह का एक सदस्य हत्या करता है दूसरा उसे दुर्भाग्यपूर्ण बताता है तीसरा मारे गए आदमी के दोष गिनाता है चौथा हत्या का औचित्य ठहराता है पांचवां समर्थन में सिर हिलाता है। और अंत में सब मिलकर बैठक करते हैं अगली हत्या की योजना के संबंध में। (राजेंद्र राजन राजन की कविता से प्रेरित इस पोस्टर […]

90 का दशकः वंचितों की सामाजिक इन्साफ की लड़ाई बनाम ब्राह्मणवाद का जंगलराज

विमर्श
1 year ago

बिहार ही नहीं पूरे देश के अभिजात्य वर्ग की मीडिया और बुद्धिजीवी वर्ग ने एक साजिश के तहत यह बहस स्थापित किया की 1990 के बाद बिहार बर्बाद हो गया। इन जनता दली समाजवादियों और लालू यादव ने शिक्षा व्यवस्था को चौपट कर दिया है। 70 के दशक मे जब प्रसिद्ध समाजवादी नेता, सामाजिक न्याय के पुरोधा कर्पूरी ठाकुर जी […]

हिंदी हिंदू हिंदोस्तान का नारा बुलंद करने वाले ढोंगी हैं- सुनील यादव

विमर्श
1 year ago

नई दिल्ली। मीनाक्षी लेखी के हिंदी न लिख पाने का प्रकरण सोशल मीडिया पर तैर रहा है सवाल यह नहीं है कि वो हिंदी नहीं लिख पाईं सवाल सिर्फ इतना है कि हिंदी हिंदू हिंदोस्तान का नारा बुलंद करने वाले कितने ढोंगी हैं। इसके साथ जो सबसे अधिक महत्वपूर्ण है वो यह है कि इस तरह की गलती किसी आरक्षित […]

मी लॉर्ड, आप जजों की नियुक्ति में कंपिटिशन से क्यों डरते हैं?

विमर्श
1 year ago

न्यायपालिका जान-पहचान वालों, और स्वजातीय लोगों के गिरोह में तब्दील हो चुकी है। भारत दुनिया का अकेला लोकतंत्र है, जहाँ उच्च न्यायपालिका में जजों का समूह ही जजों की नियुक्ति करता है। अन्य तमाम देशों में जजों की नियुक्ति में कार्यपालिका की किसी न किसी स्तर पर भूमिका होती है। चुनी हुई सरकार की जजों की नियुक्ति में भूमिका से […]

हत्याओं का स्थानीयकरण और राष्ट्रीय रवैया

विमर्श
1 year ago

हिंदुस्तान मुसलमानों की कत्लगाह में तब्दील होता जा रहा है। दिल्ली की सीमा पर लगे वल्लभगढ़ के पास चलती ट्रेन में दिन दहाड़े तीन मुस्लिम नौजवानों पर हमला, जिसमें एक की चाकू के वार से मौत हुई, न तो पहला है और न आख़िरी होनेवाला है। ठीक उसी के साथ खबर आई कि झारखंड में चतरा के पिपरवा में पुलिस […]

‘माई का दूध पिया है तो आरक्षण खत्म करके दिखाओ!’

विमर्श
1 year ago

बिहार चुनाव के पहले मोहन भागवत के बयान के बाद लालू प्रसाद ने आरएसएस-भाजपा को चैलेंज दिया था और चुनाव में अच्छी जीत हासिल की! लालू जी, मोहन भागवत के आरएसएस-भाजपा की सरकार ने आपके उस चैलेंज को स्वीकार कर लिया है, अब आप साबित कीजिए कि जीत हासिल करने के अलावा आप क्या कर सकते हैं..! अब बरास्ते अदालत […]

हिंदी साहित्य में इमरान प्रतापगढ़ी क्यों नहीं हैं?

विमर्श
1 year ago

इमरान प्रतापगढ़ी नाम के एक युवा उर्दू मंचीय शायर ने मुसलमानों को हाथ में काली पट्टी बाँध कर ईद मनाने के लिए कहा। यह एक मुसलमान लड़के की मॉब लिंचिंग की घटना पर प्रतीकात्मक विरोध के लिए था। अपनी इस मुहिम में इमरान एक हद तक सफल भी रहा। समाज से जुड़ने का यह लाभ है, कि समाज तक आप […]

बहुजनो कब जागोगे, आपके बच्चे खतरे में हैं…

विमर्श
1 year ago

सीबीएसई ने नीट में सवर्णों छात्रों को आऱक्षित कर दिया है। इसे लेकर एक व्यापक बहस शुरू हो चुकी है। इस कदम को आरक्षण खत्म करने की शुरूआत के तौर पर देखा जा रहा है। सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले के बाद सीबीएसई ने देशभर में इसे लागू कर दिया है। इसके अनुसार आरक्षित वर्ग का उम्मीदवार चाहे सबसे ज्यादा […]

2019 में BJP को हराने में महागठबंधन की सबसे अहम भूमिका होगीः तेजस्वी यादव

विमर्श
1 year ago

पटना। महागठबंधन के शीर्ष नेताओं में बेहतर समन्वय है। बिहार की न्यायप्रिय जनता ने महागठबंधन की नीतियों और कार्यक्रमों को अपार समर्थन एवम अनंत सम्मान देकर ऐतिहासिक बहुमत दिया है। हमारा इस बहुमत के पीछे जनता के सरोकारों के प्रति पूर्ण समर्पण और प्रतिबध्ह्ता है। बीजेपी और उनके समर्थक संस्थानों को हमारी एकता हजम नहीं हो रही है।गठबंधन के भी […]

पिछडों के उन्नायक वीपी सिंह और आरक्षण का अधूरा सफ़र

विमर्श
1 year ago

आरक्षण के प्रणेता व उपेक्षितों के उन्नायक पूर्व प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह का रविवार को (25 जून 1931 – नवंबर 2008) 86वां जन्मदिन मनाया गया, जिन्होंने मंडल कमीशन के थोड़े हिस्से को लागू करते हुए पिछड़ों के लिए सरकारी नौकरियों में 27% आरक्षण की घोषणा की। 392 पृष्ठ की मंडल कमीशन की रिपोर्ट देश को सामाजिक-आर्थिक​ विषमता से निबटने का […]

ख़ूनी ईद, बहते आंसू, और सोते हम

विमर्श
1 year ago

  “खिज़ां में मुझको रुलाती है याद-ए-फ़स्ल-ए-बहार ख़ुशी हो ईद की क्योंकर के सोगवार हूं मैं” “शरजील ईमाम, मेरे भाई, ये क्या बात है कि आज ईद के दिन, यानी ख़ुशी के दिन तुम सोगवार हो? तुमको किस बात का ग़म है जिसका इज़हार अल्लामा इक़बाल के शेर के ज़रिये से कर रहे हो?” “साकिब सलीम, तुम मुझसे पूछ रहे […]

आपके डेयरी प्रोडक्ट में हमारे किसान भाईयों के खून का स्वाद तो नहीं?

विमर्श
1 year ago

बिहार के कथित सहकारी संस्था कम्फेड किसानों से न्यूनतम 18 रुपये प्रति लीटर दूध लेती है और उसी दूध को 40 रुपये प्रति किलो से अधिक में बेचती है। वहीं महाराष्ट्र में गाय के दूध की न्यूनतम कीमत 27 रुपये प्रति लीटर है। दूध के रखरखाव में इतने मार्जिन का खर्च होने का सवाल ही पैदा नहीं होता है। लेकिन […]

कश्मीर से बल्लभगढ़ तक फूल रहा नफरतों का कारोबार

विमर्श
1 year ago

चिदंबरम ने बतौर होम मिनिस्टर कभी कहा था कि देश में भगवा आतंकवाद फैल रहा है। मैंने उस वक्त उनके उस बयान की बड़ी निंदा की थी, क्योंकि वह सच नहीं था। लेकिन अभी अपने देश में जिस तरह एक भीड़ किसी को घेर कर इसलिए मार देती है कि उसने दाढ़ी रखी है… सिर पर टोपी है…और वह लोग […]

तुम्हारे कौन से मंदिर पर ऐसा तिरंगा है देशभक्तों?

विमर्श
1 year ago

क्रिकेट मैच पर पाकिस्तान की जीत पर मुस्लिम युवाओं द्वारा नारे लगाये जाने की प्रायोजित खबरें मीडिया बहुत चटखारे ले-ले कर छापता है। कभी-कभी तो हमारे बंदबुद्धि मीडियाकर इस्लाम के झंडे और पाक झंडे का फर्क भी भूल जाते हैं। वे एक धार्मिक ध्वज को दुश्मन देश का राष्ट्र ध्वज समझ कर ख़बरें चला देते हैं। बाद में सच्चाई सामने […]

मीडिया की स्वतंत्रता पर वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश उर्मिल की दर्द भरी टिप्पणी

विमर्श
1 year ago

तब और अब: सन् 1986 से पत्रकारिता में हूं। वैसे स्वतंत्र रूप से अखबारी लेखन की शुरुआत सन् 1983 में हो गई थी। शायद ही कभी किसी सत्ता की भजनमंडली में शामिल हुआ। दिल्ली, बिहार, यूपी, पंजाब और जम्मू कश्मीर की तमाम आई-गई सरकारों को जब कभी कुछ गलत या जनविरोधी करते देखा या पाया, हमेशा उनके ऐसे कदमों की […]

इंसाफ की तिजोरी का ऊंची जातियों की तरफ झुकाव

विमर्श
1 year ago

कुछ लोग कहते हैं कि इंसाफ की तिजोरी तथ्य, परिस्थिति और कानून पर अपनी कड़ी नजर रखती है, किसी व्यक्ति विशेष की ओर नहीं। लेकिन अगर भारतीय न्यायपालिका का रवैया देखा जाए तो यह बात केवल लेख, लेखनी और किताबों में लिखे जाने या फिर कुछ न्यायाधीशों एवं बुद्धिजीवियों द्वारा सार्वजनिक मंचों पर भाषण देने के योग्य प्रतीत होती है। […]

फूलन देवी: जाति और मर्द की सत्ता को एक चुनौती

विमर्श
1 year ago

फूलन देवी एक ऐसा नाम जिसे दुनिया के वंचितों के साथ बहुजन आबादी ने सराहा है, इतना ही नहीं इनकी गौरव गाथा को सलाम भी किया है। पूरी दुनिया के इतिहास में फूलन देवी को लौह महिला के रूप में देखा जा गया है। फूलन देवी की विद्रोही तेवर को दुनिया ने सराहा है। तभी तो दुनिया के नामचीन पत्रिका […]

विकास का मॉडल क्या होता है? आइये सरल भाषा में बात कर लें

विमर्श
1 year ago

विकास का मतलब? और भी अमीर हो जाना। अमीर हो जाना मतलब? मतलब हमारे पास हर चीज़ का ज़्यादा हो जाना। मतलब पैसा ज़्यादा, जमीन ज्यादा, मकान ज्यादा हो जाना? हाँ जी। आपका विकास हो जाएगा तो आपके पास ज्यादा पैसा आ जाएगा जिससे आप ज्यादा गेहूं, सब्जियां, ज्यादा वगैरह खरीद सकते हैं? हाँ जी। क्या आपके लिए प्रकृति ने […]

आरएसएस का ताजमहल कैसा है?

विमर्श
1 year ago

ताजमहल भारत में है, दुनिया भर से लोग उसे देखने भारत आते हैं। पर वह भारतीय संस्कृति का प्रतीक नहीं है। लालकिला भी भारतीय संस्कृति का प्रतीक नहीं है। इसके सिवा और भी बहुत सारी इमारतें हैं, जो आरएसएस और उनके नेताओं के लिए इसलिए भारतीय संस्कृति का प्रतीक नहीं हैं, क्योंकि इन सबके निर्माता मुस्लिम शासक थे। इसलिए वे […]

जाति विनाश- एक थकाऊ और अनावश्यक प्रोजेक्ट

विमर्श
1 year ago

आर्य आक्रमण थ्योरी सही हो या न हो, इतना तो पक्का हो चला है कि मूल रूप से इस देश में श्रमणों की संस्कृति थी जो पहले गंगा यमुना के संगम के इलाके से पूर्व की तरफ फ़ैली हुई थी। बाद में बौद्ध संस्कृति के रूप में इसका विस्तार कंधार बामियान तक हुआ। ये श्रमण असल में जैन, बौद्ध और […]

More Posts
alok verma

सीबीआई में भी सब कुछ मैनेज होता है ,वर्तमान विवाद को देखकर तो यही लगता है।

Amarpali groups

आम्रपाली ग्रुप की करतूतों ने रियल एस्टेट मार्केट के विश्वास को तहस नहस कर दिया।

Suhel Seth Mayawati

सुहेल सेठ से नाबालिग के साथ उत्पीड़न और मायावती के खिलाफ आपत्तिजनक ट्वीट पर प्रश्न क्यूँ नहीं किया जाना चाहिए?

bulandshahr-violence-a-big-negligence-shown-by-uttar-pradesh-police-put-up-pictures-of-innocent-in-wanted-list

बुलंदशहर हिंसा: उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा दिखाई गई बड़ी लापरवाही, वांटेड लिस्ट में लगाया बेगुनाह की तस्वीर

Dalits-made-serious-allegations-against-Modi-and-Yogi-Sarkar,-BJP-may-fall-on-2019-elections

दलितों ने लगाए मोदी और योगी सरकार पर गंभीर आरोप, बीजेपी के लिए 2019 चुनाव में पड़ सकता है बुरा असर

Amrapali

आम्रपाली द्वारा 3000 करोड़ के शेयर बाजार में निवेश करने वाले रुपयों की होगी जाँच

Debit Card

SBI ग्राहकों के लिए सुचना – एक महीने के बाद बेकार हो जायेगा आपका ATM कार्ड

Cbi

व्हिसलब्लोअर ने दावा किया- केंद्रीय मंत्री हरिभाई ने 2 करोड़ की घूस ली; डोभाल पर भी सीबीआई में दखलंदाजी के आरोप

index

भारत में बढ़ रही है बेरोजगारों की संख्या, नोटबंदी है एक बड़ा कारण

UPSSSC-Recruitment-2018-644x362

UPSSSC रिक्रूटमेंट 2018: कनिष्ठ सहायक, आशुलिपिक, लेखा लिपिक, सहित कई अन्य पदों के लिए करे आवेदन

IIT-Delhi-recruitment-2018

IIT दिल्ली रिक्रूटमेंट 2018: 50 एग्जीक्यूटिव असिस्टेंट पदों के लिए करे आवेदन

Railway-Jobs-2018:-north-railway-Vacancy-for-the-10th-pass-on-703 posts,-Interested-Candidates-may-apply

उत्तर पश्चिम रेलवे भर्ती 2018 : 2090 अप्रेंटिस पदों के लिए करे आवेदन

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved