fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

उत्तर प्रदेश में अपने ही सर्वे में हारती दिखी बीजेपी

BJP-is-losing-according-to-its-own-poll-in-Uttar Pradesh
(Image Credits: The Asian Age)

लोकसभा चुनाव होने में अब थोड़ा ही समय बाकी है और सभी पार्टिया किसी भी तरह का जोखिम नहीं उठाना चाहती. चुनाव की डेट भी फाइनल होने में अभी लगभग एक महीने का समय बाकी है। देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में मुख्य विपक्षी पार्टियों एसपी और बीएसपी के गठबंधन के बाद आये एक सर्वे में भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस दोनों को ही बड़ी मात्रा में सीटों का नुकसान होता दिख रहा है। जो भाजपा और कांग्रेस दोनों के गले ही हड्डी बना हुआ है।

Advertisement

एक अंग्रेजी अखबार टेलीग्राफ की रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी के अपने ही सर्वे में भाजपा उत्तर प्रदेश में सिर्फ 20 से 30 सीटों पर ही सिमट सकती है.

2014 में उत्तर प्रदेश की 80 में से 71 सीटें जीतने वाली बीजेपी को सपा-बसपा गठबंधन के बाद हार का डर सताने लगा है. बीजेपी को डर है कि कही पार्टी राज्य में सिर्फ 20 सीटों तक ही सीमित ना रह जाए. ऐसी स्थिति में बीजेपी के लिए सत्ता में वापसी करने में मुश्किल हो सकती है. रिपोर्ट की मानें तो बीजेपी ने यह सर्वे प्रियंका गांधी की राजनीति में एंट्री से पहले करवाया था.

रिपोर्ट के मुताबिक प्रियंका का एंट्री का भी कुछ ख़ास फर्क सपा-बसपा के वोट बैंक पर पड़ता नज़र नहीं आ रहा, पर भाजपा के वोट जरूर कम होते नज़र आ रहे है। भाजपा को अब अपनी हार का डर सताने लगा है इसलिए भाजपा यूपी में नए सहयोगियों की तलाश में भी लग गई है.

अजीत सिंह की राष्ट्रीय लोकदल ने एसपी के सामने गठबंधन के लिए 4 सीटों की मांग रखी थी, पर गठबंधन के सहयोगी उन्हें दो सीटें देने पर ही राजी है. ऐसे में बीजेपी की कोशिश राष्ट्रीय लोकदल को अपने पाले में लाने की है…. पर जयंत चौधरी के ममता बनर्जी के धरने में शामिल होने के बाद RLD के बीजेपी के साथ जाने की संभावनाएं भी काफी कम है


पूर्वी उत्तर प्रदेश में बीजेपी के पास अपना दल के रूप में एक सहयोगी है, लेकिन पश्चिम यूपी में पार्टी को अब तक कोई सहयोगी नहीं मिला है. पश्चिमी यूपी में जाट वोटरों के बीच अजीत सिंह की पार्टी अच्छी स्थिति में रहती है. इसलिए भाजपा अजीत सिंह के साथ जुड़ना चाहती है।

रिपोर्ट की मानें तो यूपी के अलावा उन राज्यों में भी बीजेपी की सीटें कम हो सकती हैं, जहां वह 2014 में एकतरफा जीत हासिल करने में कामयाब हुई थी. हाल ही में आए विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, उत्तराखंड़, हिमाचल प्रदेश और हरियाणा में बीजेपी की सीटें कम हो सकती हैं.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved