fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

दलित व पिछड़े एकजुट, मायावती और राजकुमार सैनी मिलाएंगे हाथ

Dalit-and backward-got-united-Mayawati-and-Rajkumar-Saini-will-join-hands
(Image Credits: Jagran)

हरियाणा की राजनीति में नए समीकरण बनते नजर आ रहे हैं। खबर है की इनेलो से नाता तोड़ चुकी BSP अब कुरुक्षेत्र के भाजपा सांसद राजकुमार सैनी की लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के साथ गठजोड़ करेगी। दोनों के बीच गठबंधन का ऐलान शनिवार को संभव है। BSP के प्रांतीय प्रभारी मेघराज, प्रदेश अध्यक्ष प्रकाश भारती और लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के अध्यक्ष राजकुमार सैनी संयुक्त रूप से आज गठबंधन का ऐलान कर सकते हैं।

Advertisement

प्रदेश में दलित और पिछड़ा वर्ग के एक साथ आने से संतुलन बनेगा । दोनों पार्टियों के नेताओं ने शनिवार दोपहर करीब बारह बजे चंडीगढ़ प्रेस क्लब में संयुक्त रूप से प्रेस कांफ्रेंस बुलाई है। सांसद राजकुमार सैनी का कहना है कि हमारी BSP नेताओं के साथ बातचीत चल रही है। यदि देर रात तक कुछ चीजें फाइनल होती हैं तो BSP नेता शनिवार की प्रेस कांफ्रेंस में शामिल हो सकते हैं। इसी तरह की बातचीत उनकी दूसरे दलों के साथ भी चल रही है।

BSP के स्थानिय अध्यक्ष प्रकाश भारती ने भी सैनी की भाषा बोली है। उनका कहना है कि स्थानिय प्रांतीय प्रभारी मेघराज ने यह प्रेस कांफ्रेंस बुलाई है। कुछ चीजें फाइनल होनी हैं। यह हो सकता है कि इस प्रेस कांफ्रेंस में अचानक राजकुमार सैनी भी आ जाएं। इस बात पर गौर किया जा सकता है कि भाजपा ने अभी तक राजकुमार सैनी को पार्टी से नहीं निकाला है, लेकिन उनसे पूरी तरह अपना नाता तोड़ लिया है।

जींद उपचुनाव में भाजपा के साथ-साथ अन्य दलों को चुनौती देने वाले लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के उम्मीदवार विनोद आशरी ने करीब 13 हजार मत हासिल किए थे। यह वोट इनेलो उम्मीदवार उम्मेद सिंह रेढू से करीब चार गुना ज्यादा थे। राजकुमार सैनी ने भाजपा के वोट बैंक में ही सेंधमारी की है। भाजपा भले ही उन्हें खास अहमियत न दे, लेकिन हरियाणा की राजनीति में BSP और लोसुपा का गठबंधन दूसरे दलों के लिए मुश्किलें खड़ा कर सकता है।

हरियाणा में जाट और गैर जाट की राजनीति काफी सर चढ़ रही है। भाजपा गैर जाट की राजनीति करती है। राजकुमार सैनी पिछड़े वर्ग की राजनीति कर रहे हैं, जबकि BSP का आधा दलित वोट बैंक है। इसलिए BSP व लोसुपा की यह गैर जाट राजनीति सत्तारूढ़ भाजपा के लिए परेशानी पैदा कर सकती है।


BSP के साथ गठबंधन की खबरों से पहले लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी की दूसरे दलों से भी बातचीत हुई है। इसी तरह BSP भी आम आदमी पार्टी व जननायक जनता पार्टी के संपर्क में है। अगर शुक्रवार की रात को सब कुछ सही रहा तो बसपा व लोसुपा अपने मेल मिलाप को राजनीतिक समझौते में बदलने का ऐलान कर सकते हैं।

राजकुमार सैनी की दिल्ली में कई BSP नेताओं के साथ मुलाकात हुई है। वह शुक्रवार को संसद में रहे और शाम को उनकी पार्टी के प्रमुख नेताओं के साथ सलाह की खबरें आई। बताया जा रहा है कि लोकसभा व विधानसभा सीटों के बंटवारे समेत विभिन्न मुद्दों पर बातचीत की गई है।

BSP के हरियाणा प्रधान प्रकाश भारती का कहना है कि हमने शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस बुलाई है। हमारी पार्टी के अपने एजेंडे और मुद्दे हैं। बहुत से ऐसे इश्यू हैं, जिनकी जानकारी जनता को देना जरूरी है। रही गठबंधन की बात, जब तक आप हमने बात कर रहे हैं, तब तक भी हमारा इनेलो के साथ गठबंधन है। शनिवार को हमारी प्रेस कांफ्रेंस में राजकुमार सैनी आएंगे या नहीं, यह तभी मौके पर पता चलेगा।

वहीं, राजकुमार सैनी का कहना है कि जींद उपचुनाव के बाद हमने अपनी हार की जांच की। हम अपने को हारा हुआ नहीं मानते। लोगों ने हमें बहुत प्यार दिया है। जांच के बाद कई मुद्दों पर आगे रणनीति बनाई गई है, जिसे शनिवार को मीटिंग के बाद मीडिया से शेयर किया जाएगा। BSP  के साथ गठबंधन की चर्चा है मगर पता नहीं यह कैसे हो रही। हमारी बात तो दूसरे दलों से भी चल रही है। शनिवार को ही बताएंगे कि क्या माजरा है। देखना है की इस मीटिंग में दोनों पार्टियों के बीच गठबंधन होता है या नहीं।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved