fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

ममता बनर्जी: महारैली में विपक्षी एकता की आवाज बीजेपी के लिए बजाएगी ‘मौत की घंटी’, 125 पर सिमट जायगी भगवा पार्टी

Mamta-Banerjee: The-voice-of-opposition-unity-in-the-rally-will-be-'bell-of-death',for-BJP-saffron-party-will-get-only-125-seats
(Image Credits: Patrika)

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी ने कहा कि शनिवार 19 जनवरी को कोलकाता में होने वाली रैली में न सर्फ विपक्षी दलों क़ी एकता दिखाई देगी बल्कि उसकी आवाज आने वाले लोकसभा चुनावों में बीजेपी के लिए मौत की घंटी साबित होगी।

Advertisement

उनहोंने कहा की 2019 में क्षेत्रीय दाल निर्णायक भूमिका में होंगे। रैली की मेजबानी करते हुए ममता बनर्जी ने कहा, “संघीय दल, यानी क्षेत्रीय दल, चुनावों के बाद निर्णायक फैक्टर होंगे।”बता दें कि में रैली में देशभर से क्षेत्रीय दलों के शामिल होने की उम्मीद लगाई जा रही है।

सूत्रों की बात करें तो, जिन लोगो ने अंतिम दौर में रैली में शामिल होने के लिए अपनी सहमति दी है, उनमें बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा, पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी और यशवंत सिन्हा भी शामिल हैं। ये सभी लोग प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह की अगुवाई वाली बीजेपी की आलोचना करते रहे हैं।

मीडिया से बातचीत के दौरान ममता ने एक सवाल जवाब में कहा कि लोकसभा चुनाव में बीजेपी 125 का आकड़ां भी नहीं पार कर पाएगी। उन्होंने कहा कि इसी रैली में उन्हें भाजपा मौत की घंटी बजती हुई सुनाई देने लगेगी।

ममता बनर्जी ने कहा लगभग सभी राज्यों में क्षेत्रीय दल उनसे ज्यादा सीटों पर जीत दर्ज करेंगी। रैली में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला और उनके बेटे उमर अब्दुल्ला भी शामिल होंगें। मायावती ने अपनी तरफ से पार्टी महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा का रैली में शामिल होने के लिए नामित किया है।


पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देव गौड़ा, उनके मुख्यमंत्री बेटे एचडी कुमारस्वामी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल, डीएमके अध्यक्ष एम के स्टालिन, रालोद अध्यक्ष अजित चौधरी, एनसीपी चीफ शारद पवार, राजद से लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव के आलावा कांग्रेस से लोकसभा में पार्टी के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे भी इस रैली में शामिल होंगे।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने केरल के सीएम और सीपीआई एम नेता पी विजयन को भी निमंत्रण भेजा था मगर अभी तक उनकी तरफ से रैली में आने की सहमति नहीं दी गई है।

लोकसभा चुनाव से पहले सभी पार्टिया मिलकर भाजपा के विरोध में एक साथ खड़ी हो गई है। सभी विरोधी पार्टियां एक जुट होकर भाजपा को उसके किये गए झूठे वादों का जवाब देना चाहती है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved