fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

मध्यप्रदेश में हनी ट्रैप में फंसे कई अफसर और नेता, आरोपियों के तार बीजेपी और कांग्रेस से जुड़े

Many-officers-and-leaders-stranded-in-honey-trap-in-Madhya-Pradesh,-relation-of-accused-connected-with-BJP-and-Congress
(image credits: news state)

मध्यप्रदेश में लोगो को हनी ट्रैप के सहारे फ़साने का मामला सामने आता दिख रहा है। इसमें चौकाने वाली बात यह भी सामने आ रही है की इस मामले में आरोपियों की सम्बद्ध बीजेपी और कांग्रेस से जुड़ते दिख रहे है। इस संबध में 6 लोगो को हिरासत में लिया गया है। सूत्रों के अनुसार इनके चंगुल में ना सिर्फ बड़े अधिकारी बल्कि कई बड़े नेता भी थे।

Advertisement

बुधवार रात को आरोपियों की गिरफ्तारी हुई है। इसकी शिकायत इंदौर नगर निगम के अधिकारी ने की थी। जब इस मामले में जाँच आगे बढ़ी तो धीरे धीरे सच्चाई सामने आना लगी। वहीं इस संदर्भ में इंदौर डीआईजी रुचिवर्धन मिश्रा ने कहा कि एक सरकारी अधिकारी ने शिकायत की थी कि कुछ वीडियो के संबंध में कुछ लोग उन्हें ब्लैकमेल कर रहे हैं. तीन करोड़ मांग रहे हैं. मामले में कुछ साक्ष्य मिलने के बाद एफआईआर दर्ज की गई और गिरफ्तारी हुई।

बता दें की आरोपियों की क्रेटा कार से 14.17 लाख रुपये भी बरामद हुए हैं। सूत्र बताते हैं कि हनी ट्रैप मामले में सत्तारुढ़ कांग्रेस और बीजेपी के नेता भी शामिल हैं। मुख्य आरोपी शहर की पॉश कॉलोनी में बीजेपी के पूर्व मंत्री और वर्तमान विधायक के घर में किराये पर रह रही थी। एक वक्त पर उसका बीजेपी दफ्तर में भी खूब आना-जाना था।

सूत्रों के अनुसार एक समय में पार्टी लड़की को सागर मेयर पद के लिए टिकट देने का सोच रही थी। लेकिन चुनाव से पहले उसका एमएमएस बाहर आया जिससे टिकट कट गया। इसके आलावा उसका कांग्रेस की आईटी सेल से भी नाता रहा है। हालाकिं पार्टी कह रही है की उसे तीन महीने पहले ही निलंबित कर दिया गया लेकिन मीडिया को पत्र एक दिन पहले मिली।

मामले में कांग्रेस प्रवक्ता अभय दुबे से पूछे जाने पर वह कहते है की, ‘जिसका जिक्र आप कर रहे हैं, उन्हें तीन महीने पहले निकाल दिया गया था. बड़ा खुलासा यह है कि बीजेपी के पूर्व मंत्री के घर से लोग पकड़ाये हैं.’


आपको बता दे की दोनों पार्टियों के नाम जुड़े होने पर दोनों ही जाँच पर ताल ठोक रहे है। मध्यप्रदेश में गृहमंत्री बाला बच्चन ने कहा, ‘कोई भी इस कार्रवाई से बच नहीं पाएगा, चाहे जितना बड़ा व्यक्ति हो. जो कानून हाथ में लेते हैं वे बचेंगे नहीं.’ वहीँ बीजेपी की तरफ से प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा, ‘मुझे लगता है, ऐसे मामलों में परिणाम आने दीजिए. जो सच है वो सामने आएगा. कहीं कोई गलत है तो परिणाम भुगतने के लिए उसे तैयार रहना होगा. कोई राजनीतिक बात होगी तो उस समय बीजेपी अपना पक्ष रखेगी.’

खैर अब देखना यह होगा की जांच के बाद बीजेपी और कांग्रेस में से कौन सी पार्टी पर अधिक ऊँगली उठेगी। देखा जाये तो राज्य में कांग्रेस सरकार को इस मामले में जल्द से जल्द छानबीन कर सच्चाई सामने लाने की जरूरत है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved