fbpx
ट्रेंडिंग  
ट्रेंडिंग  
राजनीति

छोटी सी बात पर BJP के दो नेता आपस में भिड़े, जानिए फिर आगे क्या हुआ

Two-BJP-leaders-got-engaged-on-a-small-issue,-know-what-happened-next
(image credits: thehansindia.com)

अक्सर खबरे सामने आती है की एक पार्टी दूसरी पार्टी से भीड़ गई। कार्यकर्ताओं और नेताओ के बीच गाली गलोच हो गई। परन्तु एक ही पार्टी के दो नेता आपस में ही भीड़ जाए तो जनता क्या सोचेगी। अक्सर जनता के लिए सुरक्षा की बात बोलने वाली बीजेपी पार्टी में ही अपने लोग सुरक्षित नहीं है। अपनी ही पार्टी के दो लोग आपस में भीड़ गए और गाली-गलोच भी की यहाँ तक दूसरे को मारने पर भी उतारू हुए। जरा सी बात को लेकर यह मामला शुरू हुआ और देखते ही देखते बीजेपी के नेता आपस में इस कदर भिड़े की हर कोई तमाशा देखता रहा।

Advertisement

मामला उत्तराखंड का है जहाँ केंद्रीय मंत्री को माला पहनाने का इंतजार कर रहे बीजेपी के दो सीनियर नेता शुक्रवार को लोगों के सामने ही आपस में भिड़ गए। टेलीग्रफ अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक, घटना शुक्रवार को ऋषिकेश रोड पर हुई। दोनों नेताओं के बीच गाली-गलौच और धक्कामुक्की तक हुई।

द टेलिग्राफ की रिपोर्ट के अनुसार, विधानसभा स्पीकर प्रेम चंद्र अग्रवाल और शुगर इंडस्ट्री डेवलपमेंट बोर्ड के चेयरमैन व दर्जा प्राप्त मंत्री भगत राम कोठारी अपने समर्थकों के साथ सड़क के किनारे इकट्ठा हुए थे। सभी लोग जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत का अभिवादन करने के लिए आये थे। जैसे जैसे मंत्री का इंतजार लंबा होता गया, लोगों की भीड़ बढ़ती गई।

उधर, अग्रवाल और कोठारी के बीच बहस हो गई। रिपोर्ट के अनुसार, दोनों ने गालियां दीं और एक दूसरे को देख लेने की धमकी भी दी। दोनों ही नेता फूल-मालाएं लेकर आए थे। दोनों अपने समर्थकों के साथ ऋषिकेश के चंद्रेश नगर इलाके में खड़े हुए थे। शेखावत को यहीं से गुजरना था। हालांकि, ऋषिकेश पहुंचने के बाद शेखावत स्वामी चिदानंद सरस्वती से मिलने चले गए। सरस्वती परमार्थ निकेतन आश्रम में रहते हैं। उनसे मुलाकात के बाद शेखावत गंगा का निरीक्षण करने के लिए निकल गए। प्रत्यक्षर्शियों के मुताबिक, अग्रवाल और कोठारी करीब एक घंटे तक शेखावत का इंतजार करते रहे।

नाम न बताने की शर्त पर एक व्यक्ति ने बताया कि दोनों नेता एक दूसरे को धक्का दे रहे थे। इस दौरान, दोनों ने एक दूसरे को भला-बुरा भी कहा। व्यक्ति ने बताया की, ‘केंद्रीय मंत्री करीब 2:30 बजे पहुंचे और दोनों नेता उनके सामने भी लड़ने लगे। शेखावत करीब दो मिनट तक यह सब देखते रहे।


उधर, अग्रवाल अपनी हिफाजत कर रहे पुलिसवालों की मदद से शेखावत को पहले माला पहनाने में कामयाब हुए।’ स्पीकर होने की वजह से अग्रवाल के पास ज्यादा सुरक्षाकर्मी थे। वहीं, बाद में कोठारी भी मंत्री को माला पहना सके। उधर, जब पत्रकारों ने जब शेखावत से दोनों नेताओं के बीच झगड़े पर टिप्पणी चाही तो वह मुस्कुराकर चले गए। मौके पर मौजूद लोगों ने दोनों नेताओं के बीच हुए झगड़े का वीडियो बना लिया और कुछ ही घंटों में ये वीडियोज सोशल मीडिया पर वायरल हो गए।

घटना के बारे में पूछे जाने पर कोठारी ने कहा, ‘स्पीकर ने पहले भी कई मौकों पर मेरा अपमान किया है। उन्होंने कुछ महीने पहले मेरे साथ बदसलूकी की थी, जब मैं अपनी पत्नी के साथ पूजा करने बद्रीनाथ मंदिर गया था। मैं इस तरह की राजनीति से परेशान हो चुका हूं। मैं पार्टी के सीनियर नेताओं के पास अग्रवाल की शिकायत करने जा रहा हूं।’ वहीं, अग्रवाल ने कहा कि कोठारी को अनुशासन में रहना चाहिए।

जब बीजेपी अपने ही नेताओ के मसले नहीं सुलझा पाती तो देश की जनता के मसले कैसे हल करेगी। बीजेपी में यूँ तो अक्सर दूसरी पार्टियों पर भीतरी मतभेद और लड़ाई का इल्जाम लगाती है परन्तु यहाँ तो खुद बीजेपी के ही नेता आपस में भीड़ रहे है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top

© copyright reserved National Dastak. All right reserved